Click to Get Latest Covid Updates

दुर्ग जिले में एक साल में 812 लोगों की काेरोना से मौत: आज बिजनेसमैन, साहू समाज के ग्रामीण अध्यक्ष और शिक्षक की कोरोना से हो गई मौत...अब वैक्सीन के साथ-साथ मास्क और सोशल डिस्टेंसिंग ही बचाएगी जिंदगी

दुर्ग जिले में एक साल में 812 लोगों की काेरोना से मौत: आज बिजनेसमैन, साहू समाज के ग्रामीण अध्यक्ष और शिक्षक की कोरोना से हो गई मौत...अब वैक्सीन के साथ-साथ मास्क और सोशल डिस्टेंसिंग ही बचाएगी जिंदगी  

April 7, 2021

भिलाई। दुर्ग जिले में कोरोना अनकंट्रोल है। नए मरीज के साथ-साथ मौतों के आंकड़ें बढ़ रहे हैं। आज बुधवार की सुबह की शुरुआत भी मौत से हुई है। शहर के बिजनेसमैन से लेकर साहू समाज के पदाधिकारी और शिक्षक की मौत कोरोना से होने की खबर है।

इन मौतों से सब चिंतित है। ऐसे समय में कोरोना वैक्सीन के साथ-साथ लॉकडाउन के सतत् पालन से ही जिंदगी बच सकती है। क्योंकि वैक्सीन के अलावा मास्क और सोशल डिस्टेंसिंग बहुत जरूरी है। थोड़ी सी लापरवाही लोगों को भारी पड़ जा रही है। कोरोना की इस दूसरी लहर में कोई समझ ही नहीं पा रहा है कि कब, कौन पॉजिटिव हो जा रहा है।

आज जिनकी मौत की खबर आई...

1. ओंकार नाथ तिवारी: नेहरू नगर निवासी ओंकारनाथ तिवारी की कोरोना से आज मौत हो गई। हाइटेक अस्पताल जुनवानी में भर्ती थे। जामुल में उनका पेट्रोल पंप है। नेहरू नगर में गणेश पूजा पंडाल की स्थापना करने वालों में से एक थे। डेढ़ साल पहले ही जामुल में ओंकार फ्यूल्स नाम से पेट्रोल पंप का संचालन शुरू किया था। वरिष्ठ उद्योगपति केके झा ने कहा कि, उनके निधन से भिलाई को काफी क्षति हुई है। श्रद्धांजलि अर्पित करता हूं। वे गुरू प्रसाद तिवारी के छोटे भाई थे


2. शिक्षक अलख यादव भी हार गए जिंदगी जंग:
नवभारत के पत्रकार सुरेंद्र शर्मा ने जानकारी देते हुए उन्होंने लिखा है कि, एक ऐसी शोक खबर जिससे पहली बार पूरा गांव नगर हिल गया। सहसा किसी को विश्वास नहीं हो रहा है कि कोरोना से जंग हार गये गुरुजी। मरोदा टैंक के गुरूजी अलख यादव नहीं रहे। जिसे लिखते मेरे आंखों में आंसू आ गए,लेकिन जिसे बताना बेहद जरूरी है। जिसकी कल्पना किसी ने नहीं की होगी। छतीसगढ़ के सुप्रसिद्ध गायक, मंच संचालक, लोकमंजरी के लोक नाट्य देवारी में नानहे दाऊ की जीवंत भूमिका निभाने वाले उम्दा कलाकार हम सबके मार्गदर्शन मां कल्याणी शीतला मंदिर मरोदा टैंक रिसाली के सचिव, दुर्ग ब्लाक के ग्राम पाउवारा में पदस्थ वरिस्ठ व्याख्याता गुरुजी अलख यादव नहीं रहे।

बताया जाता है कि एक सप्ताह पूर्व कोरोना के प्रारंभिक लक्षण पर अलख यादव को नवजीवन अस्पताल धमधा रोड में भर्ती कराया गया था। लेकिन तबीयत थोड़ी ठीक होने पर उन्हें दो दिन पहले उनके निवास स्थान  मरोदा टैंक, बजरंग चौक, रिसाली में लाया गया था। लेकिन 6 अप्रैल मंगलवार की रात्रि 8 बजे गुरुजी अलख यादव पिता जगत यादव  का आकिस्मक निधन हो गया। वे पूटवा यादव, गना यादव,शिक्षक सन्तोष यादव, पदस्थ चिरपोटी, शिक्षक महेश यादव के भाई थे। जिनका अंतिम संस्कार आज 7 अप्रैल की सुबह 10 बजे कोविड 19 के नियमों के तहत मुक्तिधाम रिसाली, भिलाई जिला-दूर्ग, छग में किया जाएगा।


3. साहू समाज के ग्रामीण अध्यक्ष देवचरण साहू भी नहीं रहे: कोरोना ने साहू समाज के ग्रामीण अध्यक्ष की भी जान ले ली। वे डुंडेरा के रहने वाले थे। मृतक देवचरण साहू ग्रामीण साहू समाज के अध्यक्ष थे। कोरोना संक्रमण की चपेट में आने से उनकी मौत हो गई। समाजसेवा व गांव के विकास के लिए सोच रखने वाले दबंग किसान एवं किसान नेता के चले जाने से समाज व गांव में शोक की लहर है।

एक नजर में जानिए दुर्ग जिले में कोरोना स्थिति

  • 45891 मरीज अब तक मिल चुके हैं दुर्ग जिले में।
  • 14245 मरीज एक्टिव हैं, जिनका उपचार अस्पताल व होम आइसोलेशन में चल रहा है।

  • 30834 मरीज कोरोना को मात देकर स्वस्थ हो चुके हैं।
  • 812 लोगों की जान अब तक जा चुकी है कोरोना से।



विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन


समाचार और भी...