प्रदेश में बढ़ रही फिजियोथैरेपिस्ट की मांग, दुर्ग के इस कॉलेज ने प्रदेश में बनाई अलग पहचान, फिजियोथैरेपी के कोर्स में जल्द ही होगा दाखिला शुरू

प्रदेश में बढ़ रही फिजियोथैरेपिस्ट की मांग, दुर्ग के इस कॉलेज ने प्रदेश में बनाई अलग पहचान, फिजियोथैरेपी के कोर्स में जल्द ही होगा दाखिला शुरू  

October 20, 2020

भिलाई। प्रदेश में फिजियोथैरेपिस्ट की मांग बढ़ रही है। चूंकि हर दूसरा मरीज फिजियोथैरेपी से संबंधित है। अगर आप या आपका कोई करीबी फिजियोथैरेपिस्ट बनना चाहता है तो प्रदेश में एकमात्र निजी कॉलेज दुर्ग के अंजोरा में अपोलो कॉलेज ऑफ फिजियोथैरेपी है। जहां दाखिला के लिए काउंसिलिंग जल्द ही शुरु होने वाली है।

सन् 2002 में शुरु हुई कॉलेज पिछले 18 सालों से सफलतापूर्वक संचालित हैै। इस कॉलेज की खासियत यह है कि यहां के छात्रों फिजियोथैरेपी में न सिर्फ प्रदेश बल्कि दूसरे प्रदेश में जाकर भी अच्छे पैकेज में कार्य कर रहे है। अपोलो कॉलेज में फिजियोथैरेपी कोर्स की मान्यता पं. दीनदयाल उपाध्याय स्मृति स्वास्थ्य विज्ञान एवं आयुष विश्वविद्यालय, रायपुर एवं परिवार कल्याण विभाग छत्तीसगढ़ शासन से मान्यता प्राप्त है।

अपोलो काॅलेज की खासियत है कि यहां के विद्यार्थियों को बेहतर प्रोफेशनल स्किल प्रायोगिक और औद्योगिक प्रशिक्षण प्रदान किया जाता है। 7 एकड़ एरिया में संचालित अपोलो कॉलेज ऑफ फिजियोथैरेपी में जो लैब है अत्याधुनिक उपकरणों से सुसज्जित है। इसके अलावा लाईब्रेरी, सेमिनार हॉल, छात्र-छात्राओं के लिए हॉस्टल की सुविधा उपलब्ध है।

फिजियोथैरेपी एक ग्रेजुएशन कोर्स है, जिसे पूरा करने में 4 साल 6 महिने लगते है, जिसमें 4 साल अध्ययन और प्रायोगिक के और 6 महीने इंर्टनशिप होता है। कोर्स में दाखिला के लिए नीट परीक्षा के माध्यम से लिया जा सकता है।

एक नजर कॉलेज के बारे में  

  • अपोलो कॉलेज के विद्यार्थियों ने विश्वविद्यालयीन स्तर पर परीक्षा में मेरिट मे स्थान प्राप्त किये है। बी.पी.टी प्रथम वर्ष - डिंपल दीक्षा अग्रवाल, द्वितीय वर्ष-वंषीका वर्मा, तृतीय वर्ष-अंजुम समनानी एवं चतुर्थ वर्ष- यषा कृति ने उत्कृष्ठ स्थान प्राप्त कर महाविद्यालय को गौरान्वित किये।
  • अपोलो कॉलेज में विद्यार्थियों के लिए प्रतिवर्ष जॉब प्लेसमेंट का आयोजन भी कराती है। जिसमें मेक्स स्मार्ट सुपर स्पेश्यिालिटी हॉस्पिटल न्यू दिल्ली, संचेती हॉस्पिटल पुणे, फोर्टटीस हॉस्पिटल बैंगलोर, अपोलो हॉस्पिटल हैदराबाद, मेडिशाईन हॉस्पिटल रायपुर, रामकृष्ण केयर हॉस्पिटल रायपुर, क्रिशियन हॉस्पीटल, मुंगेली, बॉलाजी हॉस्पीटल मोवा, रायपुर, एम.एम.आई. हॉस्पिटल रायपुर, अपोलो हॉस्पीटल, बिलासपुर आदि में जॉब कर रहे है।
  • कॉलेज के स्टूडेंट डॉ. अजय बाम्बेसर (एन.एल.ई.टी., जिला हॉस्पिटल, बालोद), डॉ. भावना कश्यप (जिला हॉस्पिटल, बिलासपुर), डॉ. अरूणा कश्यप (जिला हॉस्पिटल, जगदलपुर), डॉ.पद्मन पटेल (जिला हॉस्पिटल, महासमुंद), डॉ. मुक्तानंद साहू (जिला हॉस्पिटल, बलोदा बाजार), डॉ. अंकिता ठाकुर (एन.आर.एच.एन., जिला हॉस्पिटल, दुर्ग), डॉ. माधुरी देवी नेहरू (एन.सी.डी. फिजियोथैरेपीस्ट, जिला हॉस्पिटल, राजनांदगांव) आदि सरकारी संस्था में जॉब कर रहे है। 

अपोलो कॉलेज में ये हैं सुविधा

  • स्वयं की फिजियोथैरेपी ओपीडी जो कि जिला चिकित्सालय दुर्ग में सन् 2011 तथा धमार्थ फिजियोथैरेपी केन्द्र, सदर बाजार दुर्ग में सन् 2010 से संचालित है।
  • कॉलेज में फिजियोथैरेपी कान्फेंस, फिसकॉन और अध्ययन कार्यशाला का आयोजन भी किया जाता है।
  • विद्यार्थियों को प्रायोगिक कार्य के लिए पं. जवाहर लाल नेहरू चिकित्सालय सेक्टर-9 में प्रशिक्षण दिया जाता है।
  • छग शासन द्वारा अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति, अन्य पिछड़ा वर्ग एवं अल्पसंख्यक के छात्र-छात्राओं को छात्रवृत्ति की सुविधा भी संस्था में उपलब्ध है।
  • फिजियोथैरेपी कोर्स की अधिक जानकारी के लिए आप इस नंबर पर संपर्क कर सकते हैं-
  • 8770899607, 8770899610, 0788-2623444


विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन


समाचार और भी...