Bhilai Times

दुर्ग पुलिस ने बड़े फ्रॉड को दबोचा: नौकरी लगाने के नाम पर लोगों से की 77 लाख की ठगी… पहले से भी दर्ज है छेड़छाड़ और चोरी के मामले, कर्नाटक तक पहुंची पुलिस की टीम, फिर…

दुर्ग पुलिस ने बड़े फ्रॉड को दबोचा: नौकरी लगाने के नाम पर लोगों से की 77 लाख की ठगी… पहले से भी दर्ज है छेड़छाड़ और चोरी के मामले, कर्नाटक तक पहुंची पुलिस की टीम, फिर…

दुर्ग। नौकरी लगाने के नाम पर लोगों को ठगने वाले आरोपी को दुर्ग पुलिस ने अरेस्ट किया है। पुलिस के अनुसार आरोपी ने अलग-अलग लोगों से करीबन 77 लाख रूपए का फ्रॉड किया है। आरोपी इसके पहली भी मारपीट, चोरी, और छेडछाड जैसे कई अपराधिक मामले मेंजल जा चूका है। आरोपी अपने महंगे शौक पुरे करने लोगों के साथ फ्रॉड करता था। पूर्व में आरोपी की खोज में दुर्ग पुलिस कर्नाटक भी जा चुकी है।

वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक दुर्ग राम गोपाल गर्ग के दिशा निर्देश पर अति0 पुलिस अधीक्षक ACCU डॉ। अनुराग झा एवं पुलिस अनुविभागीय अधिकारी पाटन देवांश सिंह राठौर के मार्गदर्शन में थाना प्रभारी उतई कपिल देव पाण्डेय के नेतृत्व मे टीम गठित कर थाना उतई के अप0क्र0 285/2021 धारा 420, 35 भादवि एवं अप0क्र0 14/2024 धारा 420, 120बी भादवि के फरार आरोपी विकास राजपूत उर्फ सोनू पिता नरेन्द्र सिंह उम्र करीबन 30 साल साकिन बोरसी कालोनी एमआईजी 2-66 ए बिजली आफिस के पास दुर्ग थाना पद्मनाभपुर के पता तलाश एवं गिरफ्तारी हेतू टीम को कर्नाटक रवाना किया गया था।

इस बात की भनक आरोपी विकास को लगने से वहां से भाग कर दुर्ग में आकर छुप गया था। जिसे पुलिस टीम द्वारा घेराबंदी कर हिरासत में लेकर पुछताछ किया गया जो बताया कि अपने एशो आराम के लिये लोगो को नौकरी लगाने के नाम पर लाखो की ठगी करता था। आरोपी अपने भाई नवीन सिंह राजपूत के साथ मिलकर लोगों का ठगी का शिकार बनाते थे। तीन साल पहले थाना उतई में अपराध पंजीबद्ध होने व भाई नवीन सिंह के गिरफ्तार होने के बाद से गिरफ्तारी के डर से फरार हो गया था। आरोपी विकास सिंह को विधिवत गिरफ्तार कर न्यायिक रिमाण्ड पर भेजा गया।आरोपी विकास सिंह पूर्व में नाबालिक लड़की के छेड़छाड़ एवं रेत चोरी कर बेचने के आरोप में जेल जा चुका है। इस पूरी कार्रवाई में थाना प्रभारी निरीक्षक कपिल देव पाण्डेय, प्र0आर0 हेमंत चंदेल, आरक्षक दुष्यंत लहरे एवं विजय कुर्रे का सराहनीय योगदान रहा है।


Related Articles