Click to Get Latest Covid Updates

टाउनशिप में रहने वाले लोगों के लिए GOOD NEWS...गंदे पानी से कल-परसो तक मिल सकती है निजात, BSP प्रबंधन ने फिल्टर प्लांट में शुरू किया पानी को साफ करने कैमिकल का इस्तेमाल, विधायक देवेंद्र ने अधिकारियों के साथ देखा प्रोसेस

टाउनशिप में रहने वाले लोगों के लिए GOOD NEWS...गंदे पानी से कल-परसो तक मिल सकती है निजात, BSP प्रबंधन ने फिल्टर प्लांट में शुरू किया पानी को साफ करने कैमिकल का इस्तेमाल, विधायक देवेंद्र ने अधिकारियों के साथ देखा प्रोसेस  

May 4, 2021

भिलाई। टाउनशिप के रहवासियों के लिए गुड न्यूज है। बहुत जल्द उन्हें पानी के रंग को लेकर आ रही समस्या का समाधान मिल जाएगा। यूं कहे तो गंदे पानी की सप्लाई से उन्हें निजात मिल जाएगी।

भिलाई इस्पात संयंत्र मरोदा स्थित जल शोधन संयंत्र में 3 मई को पानी के रंग को लेकर आ रही समस्या को दूर करने की दृष्टि को ध्यान में रखते हुए मेसर्स नालको वाॅटर इंडिया के माध्यम से मंगाये गये विषेष कैमिकल से उपचार प्रारंभ कर दिया है।

इस अवसर पर भिलाई विधायक देवेन्द्र यादव, संयंत्र के मुख्य महाप्रबंधक (नगर सेवाएं) एसके घोष और मुख्य महाप्रबंधक (नगर सेवाएं) यूके झा सहित संयंत्र के जल प्रबंधन विभाग के मुख्य महाप्रबंधक नारायनन और नगर सेवा विभाग एवं जल प्रबंधन विभाग के अन्य अधिकारी भी उपस्थित थे।

पानी में उपयुक्त विषेष कैमिकल की डोजिंग कर उपचार किया गया है। आज सुबह ही भिलाई आये इस कैमिकल को तत्काल संयंत्र के मरोदा जल शोधन प्लांट को उपलब्ध कराया गया। आज शाम में प्रारंभ किये गये उपचार का परिणाम परसों से आवासीय क्षेत्र में देखने को मिलेगा। आज उपचार के पूर्व नगरी क्षेत्र के जल की आपूर्ति अपने निर्धारित समयानुसार ओवरहैंड टेंकरों को कर दी जा चुकी थी। ज्ञात हो कि संयंत्र प्रबंधन इस्पात नगरी के नागरिकों को लगातार शुद्ध और पीने योग्य जल प्रदान करता रहा है और पानी की षुद्धता के प्रति पूर्ण रूप से आष्वस्त करता रहा है।

ज्ञात हो कि भिलाई इस्पात संयंत्र ने छत्तीसगढ़ सरकार के जल संसाधन विभाग को पानी की रंग की समस्या का हवाला देते हुए आगे से संयंत्र को जल की आपूर्ति खरखरा डेम से किये जाने के लिये पत्र भी लिखा है। वर्तमान में संयंत्र को जल तादुंला जलाशय से प्राप्त हो रहा है। लगभग 1 माह से पानी की शुद्धता (रंग) को लेकर संयंत्र प्रबंधन निरंतर प्रयास कर रहा है।

भिलाई इस्पात संयंत्र को जल संसाधन विभाग, छत्तीसगढ सरकार से कच्चा पानी प्राप्त होता है। यह जल भिलाई इस्पात संयंत्र के मरोदा- 2 जलाशय में संग्रहित है। प्राप्त कच्चे पानी को संयं़ के जल उपचार संयंत्र में विभिन्न उपचारों के माध्यम से पीने योग्य पानी बनाने के लिए संशोधित किया जाता है। विगत दिनों मरोदा- द्वितीय जलाशय में जल स्तर मात्र 9 दिनों के रिजर्व में चला गया था उस स्थिति में कैचमेंट जलाशयों से अचानक पानी छोड़ने के बाद से पानी के रंग की समस्या सामने आई।

इस समस्या को दूर करने के लिये अनेक प्रयास किये गये और फिर भी पर्याप्त परिणाम नहीं आने पर संयंत्र ने मेसर्स नाल्को वाटर इंडिया लिमिटेड के जल विशेषज्ञों की मदद भी ली। 

भिलाई इस्पात संयंत्र प्राप्त कच्चे पानी को विभिन्न उपचारों जैसे फ्लोकुलेशन प्रक्रिया, रासायनिक खुराक और रैपिड ग्रेविटी सैंड फिल्टर्स से निस्पंदन और क्लोरीनेशन आदि के माध्यम से जल उपचार संयंत्र में पीने योग्य पानी बनाने के लिए संषोधित करता है। डब्लू टी पी प्रयोगशाला में नियमित जल विश्लेषण द्वारा पैरामीटर की निगरानी की जाती है और पीने के पानी के लिए आई एस 10500: 2012 के अनुसार मापदंडों का पालन किया जाता है। बी एस पी की मरोदा लैब में डब्ल्यू टी पी में किए जा रहे परीक्षण के अनुसार पानी सुरक्षित है और पीने योग्य और प्रासंगिक मानक के अनुसार है। बी एस पी ने सरकारी प्रयोगशाला में पानी के नमूने का भी परीक्षण किया है और इसे मानदंडों के अनुसार पाया है।

बीएसपी ने जल उपचार में मेसर्स नाल्को वाटर इंडिया लिमिटेड के विशेषज्ञों की मदद भी ली और विषेषज्ञों द्वारा पीने के पानी से रंग को हटाने के लिए बताये गये उपचार के अनुसार आज से उपयुक्त उपचार भी प्रारंभ कर दिया है।

विधायक देवेंद्र लगातार कर रहे थे प्रयास
गंदे पानी की समस्या से निजात दिलाने विधायक देवेंद्र यादव लगातार प्रयास कर रहे थे। वे दो से तीन बार फिल्टर प्लांट विजिट कर चुके हैं। वहीं बीएसपी अधिकारियों के साथ प्रशासनिक अधिकारियों के साथ मीटिंग कर चुके हैं। विधायक देवेंद्र ने ही पानी की समस्या से निजात दिलाने के लिए पहल की थी।


BSP प्रबंधन पर युवा कांग्रेस का दबाव आया काम
गंदे पानी की शिकायत को लेकर को युवा कांग्रेस ने भी ज्ञापन सौंपा था। युवा कांग्रेस के राष्ट्रीय सचिव मो. शाहिद के नेतृत्व में एक सप्ताह पहले प्रतिनिधिमंडल ने बीएसपी अधिकारियों के साथ बैठक की थी। तब बीएसपी अधिकारियों को एक सप्ताह का अल्टीमेटम दिया था। युवा कांग्रेस के राष्ट्रीय सचिव मो. शाहिद ने कहा, आज एक सप्ताह के अल्टीमेटम के बाद गंदे पानी की सप्लाई को लेकर बीएसपी टाउन विभाग के ज़ीएम प्रदीप घोष से जानकारी ली। उन्होंने बताया कि बाहर की कंपनी से कैमिकल ले लिया गया है। आज से कैमिकल पानी मे मिलना शुरू किया गया है। एक से दो दिन में साफ पानी मिलना शुरू हो जाएगा।

शाहिद ने कहा इस समस्या को गंभीरता से ले और खुद सारे कार्यों पर निगरानी रख कर एक से दो दिन में साफ पानी उपलब्ध कराएं।



विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन


समाचार और भी...