Click to Get Latest Covid Updates

उद्योगनगरी भिलाई के उद्योगपतियों का दर्द: इंडस्ट्रीज और बिजनेसमैन के लिए भी बैंक खोलने की मांग, MSME उद्याेग संघ के अध्यक्ष KK झा ने कलेक्टर को लिखा लेटर, बोले-सिंगल चेक सैलरी पेमेंट के कारण कर्मियों को वेतन तक दे नहीं पा रहे

उद्योगनगरी भिलाई के उद्योगपतियों का दर्द: इंडस्ट्रीज और बिजनेसमैन के लिए भी बैंक खोलने की मांग, MSME उद्याेग संघ के अध्यक्ष KK झा ने कलेक्टर को लिखा लेटर, बोले-सिंगल चेक सैलरी पेमेंट के कारण कर्मियों को वेतन तक दे नहीं पा रहे  

April 18, 2021

भिलाई। दुर्ग जिले में लॉकडाउन बढ़ाए जाने के साथ ही कलेक्टर डॉ. सर्वेश्वर नरेन्द्र भुरे द्वारा बैंकों के कामकाज को लेकर संशोधित आदेश जारी किया गया है. इस पर एमएसएमई जिला उद्योग संघ ,दुर्ग के अध्यक्ष केके झा ने कहा है कि बैंकों को इंडस्ट्री और बिजनेसमैन के लिए खोला जाना चाहिए.

झा ने कहा कि जिस इंडस्ट्रीज या बिजनेसमैन का चेक रुका हुआ है. जहां चेक के माध्यम से कर्मचारियों को पेमेंट किया जाता है वहां वे अपने आपको असहाय महसूस कर रहे हैं. कोरोना संक्रमण के चलते कई कर्मचारियों को इस समय पैसे की सख्त जरूरत है लेकिन वे लोग चाहकर भी कर्मचारियों को पेमेंट का भुगतान नहीं कर पा रहे हैं. क्योंकि कर्मचारियों का पेमेंट चेक के माध्यम से ही होता है.

झा ने कहा कि कोरोना वायरस से काफी गंभीर स्थिति बनी हुई है. कई कर्मियों के घरों में कोरोना पेशेंट हैं. लोगों को पैसे की जरूरत है. ऐसे में यदि बैंकों में काम नहीं होगा और प्रशासन अनुमति नहीं देगा तो कर्मचारियों का पेमेंट कैसे होगा. एमएसएमई इंडस्ट्रीज और ऐसे व्यापारिक संस्थान जहां 50 से ज्यादा कर्मचारी हैं और जिनका वेतन चेक के माध्यम से किया जाता है वहां वे अपने आप को पूरी तरह असहाय महसूस कर रहे हैं.

झा ने कलेक्टर महोदय से अनुरोध किया है कि एमएसएमई इंडस्ट्री वाले और जिस बिजनेसमैन का जॉइंट पेमेंट है. जहां पर चेक के माध्यम से कर्मचारियों को सैलरी दी जाती है उन संस्थाओं को बैंक के माध्यम से पेमेंट देने की प्रक्रिया शुरू करें, अन्यथा हाहाकार मच जाएगा. श्री झा ने कहा कि इंडस्ट्री तो खुले हैं लेकिन आंतरिक रूप से वे बंद हैं. क्योंकि अधिकांश इंडस्ट्रीज में कई कर्मचारियों को कोरोना हो गया है. उन्हें पैसों की जरूरत है लेकिन वे आखिर में किस अकाउंट से पैसा दें. सेल्फ भी निकाल नहीं सकते. श्री झा ने जीएसटी पेमेन्ट की तारीख 20 को आगे बढ़ाने की भी मांग की है. उन्होंने कहा कि यदि यह संभव नहीं हो तो बैंक इंडस्ट्रीज के लिए खोला जाए.

हार्डवेयर की दुकान 2 घंटे के लिए खोली जाए
झा ने मांग की की लॉकडाउन के दौरान एमएसएमई इंडस्ट्री को माल भी नहीं मिल पा रहा है इंडस्ट्रीज से संबंधित हार्डवेयर की दुकानों को कम से कम 2 घंटे की छूट दी जाए ताकि इंडस्ट्री के लोग अपनी जरूरत का सामान ले सके उन्होंने बताया कि यहां 400 के लगभग इंडस्ट्रीज हैं यदि नंदनी रोड स्थित हार्डवेयर की दुकानों को खोलने की अनुमति मिल जाए तो यह समस्या हल हो सकती है.

ऑक्सीजन सिलेंडर की आपूर्ति 10% की जाए

झा ने मांग की कि अभी कोरोना पेशेंट के लिए ऑक्सीजन सिलेंडर जीवन दायिनी बना हुआ है ऐसी स्थिति में कोरोना पेशेंट को 80% तो एमएसएमई इंडस्ट्री वालों को भी 10 से 20% आपूर्ति का ऑक्सीजन सिलेंडर आपूर्ति की जाए ताकि इंडस्ट्री का छोटा-मोटा काम चलता रहे उन्होंने बताया कि लेथ मशीन में टूल लगता है उसकी ब्रीडिंग के लिए ऑक्सीजन की जरूरत पड़ती है यदि इंडस्ट्री को भी आंख ऑक्सीजन सिलेंडर मिल जाए तो उनके मजदूर बेकार नहीं बैठेंगे अन्यथा स्थिति ऐसी होगी कि एक नई समस्या खड़ी हो जाएगी.

दुर्ग जिले में कोरोना से जीत की संभावना बढ़ी
झा ने कलेक्टर डॉ भुरे द्वारा लॉकडाउन के दौरान किए जा रहे कार्यों की प्रशंसा करते हुए कहा कि दुर्ग जिले में जो फिगर आ रहे हैं उससे करुणा से जीत की संभावना बढ़ती जा रही है कलेक्टर महोदय ने घर-घर सब्जी और फल आपूर्ति की जो नई व्यवस्था की है इससे लोगों को राहत मिली है अब किसी तरह के भीड़ की संभावना नहीं रह गई है कलेक्टर महोदय ने सूझबूझ से काम लिया है वह प्रशंसा के पात्र हैं.



विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन


समाचार और भी...