Bhilai Times

उत्तराखंड की शेरनी, छत्तीसगढ़ की बेटी IPS श्वेता चौबे राष्ट्रपति पुरस्कार से सम्मानित… पिता दिवंगत IPS VS चौबे रह चुके हैं दुर्ग SP समेत छत्तीसगढ़ के DGP, इसलिए है फेमस; जानिए

उत्तराखंड की शेरनी, छत्तीसगढ़ की बेटी IPS श्वेता चौबे राष्ट्रपति पुरस्कार से सम्मानित… पिता दिवंगत IPS VS चौबे रह चुके हैं दुर्ग SP समेत छत्तीसगढ़ के DGP, इसलिए है फेमस; जानिए

  • दुर्ग जिले में बिता है IPS श्वेता चौबे का बचपन
  • SIT में रहते शिक्षक भर्ती घोटाले का किया था भंडाफोड़
  • पिता के पदचिन्हों पर आगे बढ़ रहीं है IPS श्वेता

नई दिल्ली, दुर्ग। केंद्रीय गृह मंत्रालय द्वारा हालही में ही अलग-अलग क्षेत्र में कार्यरत शासकीय कर्मचारियों को उनकी विशिष्ट सेवाओं के लिए पुरस्कृत करने हेतु चयनित अधिकारियों की सूची जारी की गई है। जिसमें छत्तीसगढ़ के पूर्व डीजीपी विजय शंकर चौबे की बेटी श्वेता चौबे का भी नाम शामिल है। फिलहाल श्वेता उत्तराखंड के पौड़ी जिले में बतौर एसएसपी पदस्थ हैं और उनका नाम सराहनीय पुलिस सेवा के दृष्टिकोण से राष्ट्रपति मेडल के लिए चयनित हुआ है। श्वेता चौबे को उनकी पुलिसिंग के लिए पूरे उत्तराखंड में उत्तराखंड की शेरनी के नाम से जाना जाता है और उनके पिता विजय शंकर चौबे को यह पुरस्कार सन 1987 में दुर्ग में पदस्थ रहते हुए मिला था।

दुर्ग जिले में बिता है IPS श्वेता चौबे का बचपन
इसके बाद वे सन 2000 में विशिष्ट पुलिसिंग सेवा के लिए भी राष्ट्रपति पुरस्कार से नवाजे गए थे। आपको बता दें कि श्वेता चौबे का पूरा बचपन छत्तीसगढ़ के दुर्ग जिले में ही बीता है और उनका दादिहाल सारंगढ़ है। श्वेता ने सन 2005 में बतौर डीएसपी राज्य पुलिस सेवा में अपने करियर की शुरुआत की थी और अपने दबंग अंदाज के चलते उन्हें धीरे-धीरे पूरे उत्तराखंड में उत्तराखंड की शेरनी के नाम से जाना जाने लगा। सन 2019 में उन्हें आईपीएस अवार्ड हुआ और वे देहरादून में बतौर एसपी पदस्थ हुई, कोरोना काल में बतौर एसपी सिटी उनके कार्यकाल की हर किसी ने सराहना की। इसके अलावा 2021 के महाकुंभ के दौरान उन्होंने जिस तरह से कार्य किया वह किसी से छिपा नहीं है।

SIT में रहते शिक्षक भर्ती घोटाले का किया था भंडाफोड़
एसआइटी में रहते हुए उन्होंने शिक्षक भर्ती घोटाले का भंडाफोड़ किया तो विजिलेंस में रहते हुए बड़े-बड़े भ्रष्टाचारियों को जेल भेजने का काम किया। अंकिता भंडारी कांड के बाद पौड़ी जिले के बिगड़ते हालात को देखते हुए उनको पौड़ी के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक की जिम्मेदारी मिली थी। उनके नेतृत्व में पौड़ी पुलिस ने कई बड़ी सफलता हासिल की है। इस बार के कांवड़ मेले के दौरान नीलकंठ महादेव मंदिर में उमड़ी भीड़ एवं खराब मौसम के बीच वह लगातार पुलिसकर्मियों का उत्साहवर्धन करती रही और अब केंद्रीय गृह विभाग ने उनकी बेहतरीन पुलिसिंग के लिए उन्हें राष्ट्रपति मेडल से सम्मानित करने का निर्णय लिया है।

पिता के पदचिन्हों पर आगे बढ़ रहीं है IPS श्वेता
मीडिया से बातचीत में श्वेता चौबे ने बताया कि उनके पिता  विजय शंकर चौबे को बचपन से ही उन्होंने पुलिस में सेवा देते हुए देखा है जिसके चलते वे भी बचपन से ही एक बड़ी पुलिस अधिकारी बनना चाहती थी और उनका यह सपना तब पूरा हुआ जब वे उत्तराखंड राज्य पुलिस सेवा में बतौर डीएसपी पदस्त हुईं। श्वेता ने बताया कि इस पुरस्कार के मिलने से वे बहुत खुश हैं लेकिन उससे भी ज्यादा खुशी उन्हें इस बात की है कि वे अपने पिता के पदचिन्हों पर आगे बढ़ रहीं है और आगे भी इसी तरह वो अपने पिता के आदर्शों के साथ ईमानदारी से पुलिस विभाग में अपनी सेवाएं देती रहेंगी।


Related Articles