भिलाइयंस को गर्व होगा: पीसीआई ने फार्मेसी सिलेबस में किया बदलाव, छात्र परेशान न हो इसलिए भिलाई के प्रोफेसर ने लिख दी नई किताब

भिलाइयंस को गर्व होगा: पीसीआई ने फार्मेसी सिलेबस में किया बदलाव, छात्र परेशान न हो इसलिए भिलाई के प्रोफेसर ने लिख दी नई किताब  

January 21, 2021

भिलाई। छत्तीसगढ़ के फार्मेसी विद्यार्थी अब आसाना भाषा में अपना कोर्स कंटेंट पढ़ेंगे। फार्मेसी काउसिल ऑफ इंडिया (पीसीआई) के नए सिलेबस पैटर्न के हिसाब से संतोष रूंगटा कॉलेज ऑफ फार्मास्यूटिकल साइंस एंड रिसर्च के प्रिंसिपल डॉ. डीके त्रिपाठी ने फार्मा छात्रों के लिए नई किताब लिखी है। फिजिकल फार्मास्यूटिक नाम की इस किताब को फार्मा के तीसरे और चौथे सेमेस्टर के विद्यार्थी पढ़ेंगे।

सबसे खास ये है कि इस किताब में इस्तेमाल की गई भाषा को आसान रखा गया है, जिससे हिंदी माध्यम के विद्यार्थियों को कहीं दिक्कत नहीं आएगी। वहीं एक ही किताब में मल्टीपल च्वॉइस प्रश्न भी मिलेंगे। बता दें कि  फार्मेसी के विद्यार्थियों के लिए यह किताब काफी फायदेमंद साबित होगी। डॉ. त्रिपाठी ने बीते आठ साल में 10 किताबे लिखीं है। देशभर में उनके अनुभव और फार्मेसी में नए प्रयोगों की वजह से पहचान है। हाल ही में लिखी यह किताब बाजार और विश्वविद्यालयों की लाइब्रेरी में पहुंच चुकी है।

प्राचार्य डॉ. डीके त्रिपाठी ओडिशियन ड्रग एंड कंट्रोल में बड़े पद पर रहे। देश की नामी स्टैंडर्ड फार्मास्यूकिल लिमिटेड के साथ भी काम किया। उन्हें दवाइयों के प्रोडक्शन, क्वालिटी कंट्रोल में 25 साल का गहन अनुभव है। वर्तमान में वें पीसीआई और नैक के इंस्पैक्टर भी हैं। यही नहीं छत्तीसगढ़ स्वामी विवेकानंद तकनीकी विश्वविद्यालय की फार्मेसी बोर्ड ऑफ स्टडी में चेयरमैन रहे। फार्मेसी डीन का ओहदा भी उन्हें दिया गया।



विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन


समाचार और भी...