दुनियाभर में बज रहा भिलाई का डंका...दुनिया के टॉप-2% वैज्ञानिकों की सूची में संतोष रूंगटा ग्रूप भिलाई के प्रोफेसर डॉ. एजाज का भी नाम...लिस्ट में दुर्ग यूनिवर्सिटी के पूर्व कुलपति और उनकी पत्नी ने भी बनाई जगह

दुनियाभर में बज रहा भिलाई का डंका...दुनिया के टॉप-2% वैज्ञानिकों की सूची में संतोष रूंगटा ग्रूप भिलाई के प्रोफेसर डॉ. एजाज का भी नाम...लिस्ट में दुर्ग यूनिवर्सिटी के पूर्व कुलपति और उनकी पत्नी ने भी बनाई जगह  

November 19, 2020

भिलाई: अमरीका की स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी ने दुनियाभर के शीर्ष २ फीसदी वैज्ञानिकों की सूची जारी कर दी है, जिसमें छत्तीसगढ़ के तीन प्रोफेसरों को भी शामिल किया गया हैं। पं. रविशंकर शुक्ल विश्वविद्यालय के वरिष्ठ प्रोफेसर व हेमचंद यादव विश्वविद्यालय के पूर्व कुलपति डॉ. शैलेंद्र सराफ के साथ इसी विवि की प्रोफेसर डॉ. स्वर्णलता सराफ और संतोष रूंगटा कॉलेज ऑफ फार्मास्यूटिकल साइंस एंड रिसर्च (आर-१) के वाइस प्रिंसिपल डॉ. एजाजुद्दीन का नाम भी श्रेष्ठ वैज्ञानिकों की सूची में जोड़ा गया है। स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी ने दुनियाभर के एक लाख ५९ हजार वैज्ञानिकों की सूची जारी की है, जिनमें एक हजार ४९२ वैज्ञानिक भारतीय हैं। यह मुकाम फार्मेसी की फील्ड में शानदार रिसर्च और मेडिसीन में नवाचार को देखकर दिया गया है।

कौन है डॉ. एजाज...
डॉ. एजाजुद्दीन ने अपनी फार्मेसी की पढ़ाई मध्यप्रदेश सागर में डॉ. एचएस गौर यूनिवर्सिटी से पूरी की। इसके बाद रायपुर की प. रविशंकर शुक्ल विश्वविद्यालय से फार्मास्यूटिकल साइंस में पीएचडी की उपाधि हासिल की। प्रोफेसर शैलेंद्र सराफ ही उनके गाइड थें। हाल ही में डॉ. एजाज को छत्तीसगढ़ सोसाइटी ऑफ फार्मास्यूटिकल साइंस ने बेस्ट साइंटिस्ट अवॉर्ड से नवाजा है। यही नहीं भारत सरकार के साइंस एंड टेक्नोलॉजी विभाग ने 40 लाख रुपए का अनुदान रिसर्च को आगे बढ़ाने के लिए दिया है।

कैंसर ड्रग पर चल रही रिसर्च
डॉ. एजाजुद्दीन ने बताया कि वर्तमान में डीएसटी के अनुदान के साथ वें एंटी कैंसर ड्रग के हानिकारक प्रभावों को कम करने के  लिए दवाई तैयार कर रहे हैं। ड्रग के विकल्प पर शोध किया जा रहा है, जिससे मरीज को कम तकलीफ में कैंसर के इलाज का बेहतर रास्ता मिलेगा। इसके साथ ही सोसायसिस के इलाज के लिए सस्ती दवाई भी तैयार हो रही है। इस ड्रग को देश के नामी वैज्ञानिकों ने भी सराहा है। इसी तरह रिसर्च को आगे बढ़ाने के लिए भारत सरकार ने संसाधन देने का वादा किया है। डॉ. एजाज की इस उपलब्धि पर संस्था के चेयरमैन संतोष रूंगटा ने खुशी जाहिर की है।



विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन


समाचार और भी...