इंस्टीट्यूशन ऑफ इंजीनियर्स इंडिया भिलाई में “ऊर्जा संरक्षण-समय की आवश्यकता” विषय पर तकनीकी चर्चा का आयोजन… BSP के पूर्व ED रहे चीफ गेस्ट

भिलाई। भिलाई स्थित इंस्टीट्यूशन ऑफ इंजीनियर्स इंडिया द्वारा रविवार दिनांक 3 मार्च 2024 को “ऊर्जा संरक्षण – समय की आवश्यकता” विषय पर एक तकनीकी चर्चा का आयोजन किया गया था। इस अवसर पर कार्यक्रम के मुख्य अतिथि बी एम के बाजपेयी पूर्व कार्यपालक निदेशक (वर्क्स), भिलाई इस्पात संयंत्र एवम विशिष्ट अतिथि पी के तिवारी, पूर्व अध्यक्ष इंस्टीट्यूशन ऑफ इंजीनियर्स भिलाई थे। विशिष्ट अतिथि वक्ता के रूप में अरविंद रस्तोगी, प्रमुख टेक्नोवेशन ग्रुप, भिलाई एवं राहुल गुप्ता सहायक अभियंता छत्तीसगढ़ राज्य अक्षय ऊर्जा अभिकरण क्रेडा उपस्थित थे। कार्यक्रम के आरम्भ में ऊर्जा संरक्षण के महत्त्व को प्रतिपादित करते हुए इंस्टीट्यूशन ऑफ इंजीनियर्स की भिलाई शाखा के अध्यक्ष पुनीत चौबे ने कहा की ग्लोबल वार्मिंग, ग्रीनहाउस गैस के दुष्प्रभाव एवं पर्यावरण विनाश को नियंत्रित करने हेतु हमें ऊर्जा संरक्षण की दिशा में निर्णायक कदम उठाना होगा। उन्होंने कहा की ऊर्जा संरक्षण के द्वारा हम ना केवल पर्यावरण असंतुलन की चुनौतियों का सामना कर पाएंगे बल्कि ऊर्जा की बचत करके हम धन की बचत भी कर पाएंगे।

मुख्य अतिथि बी एम के बाजपेयी ने अपने उद्बोधन में कहा कि सभी देशों के आर्थिक विकास का पैमाना जी डी पी दर की वृद्धि से तय करते हैं यह अच्छी बात है, ठीक उसी प्रकार हम प्रत्येक देश का आंकलन उनके द्वारा ऊर्जा संरक्षण एवं प्रति व्यक्ति ऊर्जा खपत में न्यूनतम निर्धारित मापदंड प्राप्ति पर हो l बाजपेई ने भिलाई इस्पात संयंत्र में व्यर्थ जा रही ऊर्जा को उपयोगी ऊर्जा में परिवर्तित किए जाने के लिए किए गए उपाय एवं अनुभव साझा किए । उन्होंने इस्पात उत्पादन में ऊर्जा की खपत को निरंतर कम करने के प्रति प्रयासों के बारे में भी अवगत कराया। उन्होंने भिलाई इस्पात संयंत्र में हेलमेट लागू करने के अपने प्रयास, उस समय आई दिक्कतों और तात्कालीन जिला प्रशासन से मिले सहयोग का उदाहरण देते हुए बताया कि सकारात्मक कार्य में सदैव सभी का सहयोग मिलता है। श्री बाजपेई ने सरकार द्वारा राजस्थान एवम गुजरात की मरू भूमि में सौर ऊर्जा के बड़े संयंत्र स्थापित करने के निर्णय की सराहना करते हुए कहा कि यह तकनीकी तौर पर एक अभिनव प्रयास है। उन्होंने कहा की ऊर्जा संरक्षण एवं नवीकरणीय ऊर्जा के उपयोग के बारे में जागरूकता पैदा करने के साथ ही जमीनी स्तर पर क्रियान्वयन की दिशा में भी ठोस कदम उठाए जाने चाहिए।

विशिष्ट अतिथि वक्ता अरविंद रस्तोगी, प्रमुख, टेक्नोवेशंस ग्रुप भिलाई ने ” जीवन व्यवस्था में बदलाव से ऊर्जा संरक्षण ” विषय पर रोचक प्रस्तुतीकरण दिया। उन्होंने घर की रसोई से लेकर ऊर्जा उत्पादन एवं आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस तक में ऊर्जा अपव्यय और उनके बचत की संभावनाओं के बारे में विस्तारपूर्वक जानकारी दी। श्री रस्तोगी ने वर्तमान परिदृष्य में बढ़ते डिजिटल उपयोग, क्रिप्टो करेंसी माइनिंग, सॉफ्टवेयर विकास आदि क्षेत्र में ऊर्जा और जल के खपत की जानकारी दी जिस पर अभी कोई चिंतन नही हो रहा है। उन्होंने कृषि क्षेत्र में जल के अपव्यय को रोकने और उससे होने वाली ऊर्जा खपत की जानकारी साझा कर जल के सकारात्मक उपयोग पर बल दिया। श्री अरविंद रस्तोगी ने आंकड़ों की तुलना कर बताया कि आज भी रेल की यात्रा में सबसे कम ऊर्जा की खपत होती है जबकि हवाई यात्रा में सर्वाधिक ऊर्जा खपत होती है। उन्होंने कहा कि इलेक्ट्रिक वाहनों द्वारा एक क्षेत्र में पर्यावरण संरक्षण में मदद मिलती है किंतु इससे विद्युत ऊर्जा की खपत बढ़ रही है तथा विद्युत ताप बिजली घर के द्वारा कार्बन उत्सर्जन बढ़ेगा। रस्तोगी ने कहा यदि हम इलेक्ट्रिक वाहनों को सही मायने में नवीकरणीय ऊर्जा से चला सके तब यह व्यवस्था सही मायनो में सफल कहलाएगी।

विशिष्ठ अतिथि वक्ता राहुल गुप्ता सहायक अभियंता क्रेडा, रायपुर ने अपने प्रस्तुतिकरण में भारत सरकार के ऊर्जा दक्षता ब्यूरो के पी ए टी योजना के बारे में बताया की ऊर्जा खपत मानदंडों के पालन से प्राप्त ऊर्जा बचत प्रमाण पत्र को व्यापार योग्य उपकरण में परिवर्तित कर दिया जाता है। उन्होने बताया की लोगों के जीवन स्तर को बढ़ाने और जलवायु परिवर्तन के प्रतिकूल प्रभावों के प्रति संवेदनशीलता बनाने हेतु चार पहल तय की गई थी जिनमें पी ए टी उसका एक हिस्सा है। गुप्ता ने यह भी बताया की ऊर्जा संरक्षण उपायों को लागू करने में छत्तीसगढ़ संपूर्ण भारत में ऊर्जा संरक्षण में दूसरे स्थान पर है जो हमारे लिए गर्व का विषय है। उन्होंने दुरूह ग्रामीण क्षेत्रों में सौर ऊर्जा के माध्यम से सोलर पंप, अस्पताल स्कूल तथा अन्य जरूरी गतिविधियों के लिए बिजली प्रदान किए जाने की जानकारी दी। गुप्ता ने अपने सेवाकाल के शुरुआत में दंतेवाड़ा के ग्रामीण क्षेत्र में सौर ऊर्जा के माध्यम से बिजली पहुंचने और लोगों की प्रसन्नता को अपने जीवन का एक अविस्मरणीय पल बताया। उन्होंने सौर ऊर्जा के विस्तार और इन प्रयासों से ग्रामीण क्षेत्र की जनता की सहूलियत में बेहतरी लाने के प्रयासों को सविस्तार समझाया। इस अवसर पर संस्था के पूर्व अध्यक्ष बी पी यादव, कार्यकारिणी सदस्य, इंस्टीट्यूशन ऑफ इंजीनियर्स भिलाई शाखा के सम्मानित सदस्यगण, भिलाई इस्पात संयंत्र, सेल रिफ्रेक्टरी यूनिट, सी ई टी, शासकीय इंजीनियरिंग महाविद्यालय रायपुर, बी आई टी दुर्ग, रूंगटा कॉलेज, प्रिज्म कॉलेज एवम शैक्षणिक संस्थानों के संकाय सदस्य एवं छात्र छात्राएं उपस्थित थे। आभार प्रदर्शन प्रोफेसर नागेंद्र त्रिपाठी ने दिया।

खबरें और भी हैं...
संबंधित

बिलासपुर लोकसभा से भाजपा प्रत्याशी तोखन साहू ने भरा...

डेस्क। लोकसभा चुनाव के मद्देनजर मुख्यमंत्री विष्णुदेव साय बिलासपुर पहुंचे। सीएम साय बिलासपुर लोकसभा से भाजपा प्रत्याशी तोखन साहू के नामांकन में शामिल हुए।...

मतदान में हर पल पर रहेगी पैनी नजर: CEO...

रायपुर। लोकसभा निर्वाचन 2024 अंतर्गत प्रदेश में प्रथम चरण में बस्तर लोकसभा क्षेत्र में हो रहे मतदान की पल-पल की गतिविधियों पर नजर रखने...

छत्तीसगढ़ में कांग्रेस को तगड़ा झटका: बस्तर में वोटिंग...

रायपुर। छत्तीसगढ़ में बस्तर में वोटिंग के एक दिन पहले कांग्रेस को तगड़ा झटका लगा है। भारतीय जनता पार्टी की रीति-नीति से प्रभावित होकर...

अनोखी पहल: रायपुर जिले के सात विधानसभा के एक-एक...

रायपुर। आगामी लोकसभा चुनाव-2024 में जिले के सभी विधानसभा के एक-एक बूथ दिव्यांग कर्मचारी संभालंेगे। जिनमें पीठासीन अधिकारी सहित पी-01, पी-02 एवं पी-03 सभी...

ट्रेंडिंग