Bhilai Times

खैरागढ़ उपचुनाव: भाजपा में भितरघात शुरू…लगाम के लिए बृजमोहन, कौशिक समेत इन दिग्गजों को संगठन ने दी जिम्मेदारी, प्रत्याशी से नाराज कार्यकर्ताओं ने दी काम नहीं करने की धमकी

खैरागढ़ उपचुनाव: भाजपा में भितरघात शुरू…लगाम के लिए बृजमोहन, कौशिक समेत इन दिग्गजों को संगठन ने दी जिम्मेदारी, प्रत्याशी से नाराज कार्यकर्ताओं ने दी काम नहीं करने की धमकी

खैरागढ़। भाजपा से कोमल जंघेल को लगातार पांचवीं बार टिकट मिलने को लेकर कतिपय नेता नाराजगी जाहिर कर रहे हैं। वहीं सोशल मीडिया में चुनाव में काम नहीं करने को लेकर पोस्ट भी कर रहे है। ऐसे में सत्ता सरकार के खिलाफ उपचुनाव के रण में उतरना विपक्षी पार्टी के लिए टेढ़ी खीर साबित हो सकती है।

इधर भारतीय जनता पार्टी ने खैरागढ़ उपचुनाव के लिए कमर कसते हुए एक बड़ा दांव चला है। जिससे बगावती सुर दिख रहे कतिपय नेताओं पर नकेल कसा जा सकेगा। क्योंकि भारतीय जनता पार्टी छत्तीसगढ़ के प्रदेशाध्यक्ष विष्णुदेव साय ने खैरागढ़ विधानसभा उपचुनाव के लिए मंडल प्रभारी और सहप्रभारी की घोषणा कर दी है। जिसमें भाजपा शासनकाल में मंत्री रहे पांच बड़े चेहरों को मंडलों का प्रभारी बनाया गया है। खास बात यह है कि खैरागढ़ शहर और ग्रामीण की जिम्मेदारी भी तेज तर्रार नेताओं को सौंपी गई है।

ऐसा इसलिए कहा जा रहा है क्योंकि…भाजपा से कोमल जंघेल को लगातार पांचवीं बार टिकट मिलने के बाद एक धड़ा बगावत पर उतर आया है। हालांकि खुलकर विरोध नहीं कर रहे हैं, लेकिन सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म के एक वाट्सएप ग्रुप में उनका जमकर विरोध हुआ। किसी ने पार्टी को नमस्कार करने की बात कही, तो कोई इस्तीफा देने की बात कर रहे है। इसके अलावा उन्हें बड़े अंतर से हारने के बात कर रहा है। इस तरह विरोध की लंबी चौड़ी फेहरिस्त है।

खैरागढ़ शहर मंडल भाजपा – विधानसभा क्षेत्र में बगावती तेवर रखने वाले नेता शहर में ही है। दो चुनाव परिणामों में देखा जा चुका है, वहीं उपचुनाव में भी सुगबुगाहट तेज हो गई है। ऐसे में भाजपा शासनकाल के मंत्री रहे तेज तर्रार नेता बृजमोहन अग्रवाल को खैरागढ़ शहर का प्रभारी बनाया गया है। क्योंकि अग्रवाल ऐसे नेता है, जिनके प्रभार में गलत हुआ तो लापरवाही बरतने वालों पर कार्रवाई करने में कोई कोताही नहीं बरतेंगे। वही उनका साथ देने के लिए केदारनाथ गुप्ता को खैरागढ़ शहर सहप्रभारी नियुक्त किया गया है।

खैरागढ़ ग्रामीण मंडल भाजपा – ग्रामीण मंडल में भी भाजपा के बड़े नेता राजेश मूणत को प्रभारी बनाया गया है। इसी तरह नारायण चंदेल और अनुराग सिंह देव को सह प्रभारी की जिम्मेदारी सौंपी गई है।

छुईखदान मंडल भाजपा – विधानसभा क्षेत्र का एक अहम हिस्सा छुईखदान मंडल भी है। यहीं वजह है कि यहां की जिम्मेदारी वरिष्ठ भाजपा नेता धरमलाल कौशिक सौंपी गई है। जबकि मोतीराम चंद्रवंशी और भूपेन्द्र सवन्नी को छुईखदान का सह प्रभारी नियुक्त गया है।

गंडई मंडल भाजपा- इधर शिवरतन शर्मा को गंडई का प्रभारी बनाया गया है। जबकि संजय श्रीवास्तव को गंडई का सह प्रभारी बनाया गया है।

साल्हेवारा मंडल भाजपा- इसी कड़ी में केदार कश्यप को साल्हेवारा एरिया का प्रभारी बनाया गया है। क्योंकि यह क्षेत्र आदिवासी बाहुल्य है, ऐसे में केदार कश्यप को प्रभारी बनाकर संगठन के आदिवासी नेता और वोटरों पर निशाना साधने का प्रयास किया गया गया है। जबकि किरण देव और विजय शर्मा को साल्हेवारा का सह प्रभारी नियुक्त किया है।


Related Articles