Bhilai Times

CM vs EX सीएम: विश्व आदिवासी दिवस पर अरूण साव को प्रदेश अध्यक्ष बनाए जाने पर भूपेश बोले – विष्णुदेव साय को आज नहीं हटाना था… जवाब में रमन सिंह बोले – भाजपा ने देश के सर्वोच्च पद पर आदिवसी वर्ग की महिला को पहुंचाया

CM vs EX सीएम: विश्व आदिवासी दिवस पर अरूण साव को प्रदेश अध्यक्ष बनाए जाने पर भूपेश बोले – विष्णुदेव साय को आज नहीं हटाना था… जवाब में रमन सिंह बोले – भाजपा ने देश के सर्वोच्च पद पर आदिवसी वर्ग की महिला को पहुंचाया

रायपुर। छत्तीसगढ़ में नेतृत्व परिवर्तन हो गया है। बिलासपुर सांसद अरूण साव को भाजपा ने नया प्रदेश अध्यक्ष बना दिया है। साहू समाज से आने वाले साव को अध्यक्ष बनाने के पीछे मिशन-2023 है। जिसकी चर्चा लंबे समय से चल रही थी।

विश्व आदिवासी दिवस के मौके पर भाजपा अध्यक्ष विष्णुदेव साय को हटाने के फैसले को कांग्रेस ने भाजपा की आदिवासी विरोधी मानसिकता बताया है। सीएम भूपेश बघेल ने कहा कि आज विश्व आदिवासी दिवस है। कम से कम आज के दिन विष्णुदेव साय को नहीं हटाना था। इसके जवाब में पूर्व सीएम डॉ. रमन सिंह ने कहा कि भाजपा ऐसी पार्टी है, जिसने अनुसूचित जनजाति वर्ग का सम्मान किया है। जनजातियों के लिए अलग विभाग का गठन किया। देश के सर्वोच्च पद पर जनजाति वर्ग से द्रौपदी मुर्मू पूरे देश का नेतृत्व कर रही हैं। रेणुका सिंह केंद्रीय मंत्री के रूप में जनजाति समाज के साथ-साथ छत्तीसगढ़ का प्रतिनिधित्व कर रही हैं। भाजपा ने हमेशा राष्ट्रीय और प्रदेश स्तर पर जनजातियों का सम्मान किया है।

पूर्व मुख्यमंत्री रमन सिंह ने अरूण साव को प्रदेश अध्यक्ष बनाये जाने को लेकर बयान दिया है। उन्होंने अरूण साव को सुलझा हुआ नेता बताते हुए कहा है कि उनके नेतृत्व में पार्टी आगे बढ़ेगी। पूर्व मुख्यमंत्री रमन सिंह ने कहा है कि प्रदेश अध्यक्ष को लेकर पार्टी नेतृत्व का फैसला होता है, अरूण साव को रमन सिंह ने ऊर्जावान नेता बताया है।

रमन सिंह ने कहा कि विष्णुदेव साय तीन बार प्रदेश अध्यक्ष रहे हैं, केंद्र में रहे हैं, उनका अनुभव पार्टी को मिलता रहेगा। बिलासपुर सांसद अरूण साव को पार्टी ने प्रदेश अध्यक्ष की कमान सौंपी है। इस फैसले ने कई लोगों को हैरान कर दिया है। कांग्रेस ने भी इस बदलाव पर कटाक्ष किया है। कांग्रेस ने कहा है कि आज आदिवासी दिवस है और आदिवासी दिवस के दिन आदिवासी नेता के साथ ऐसा करना गलत है। जवाब में रमन सिंह ने कहा है कि भाजपा ने तो देश के सर्वोच्च पद पर आदिवासी वर्ग की महिला को पहुंचाया है।


Related Articles