ग्राउंड पर उतरी दुर्ग कलेक्टर IAS ऋचा प्रकाश चौधरी: वार्डों में साफ-सफाई व्यवस्थाओं का किया औचक निरीक्षण… नागरिकों से रूबरू होकर जानी उनकी समस्या, 42 MLD फिल्टर प्लांट का भी लिया जायजा… दिए ये निर्देश

  • रोस्टर अनुरूप हो हर वार्ड में सफाईः कलेक्टर:
  • डोर टू डोर कलेक्शन में कचरा नही देने पर लगेगा जुर्माना
  • कलेक्टर ने पानी में पाए जाने वाले तत्व की जांच के साथ फिल्टरेशन प्रक्रिया को भी देख
  • नाली से लेकर लाइटिंग व्यवस्था दुरुस्त करने के निर्देश

दुर्ग। दुर्ग जिले की कलेक्टर IAS ऋचा प्रकाश चौधरी ने गुरुवार को ग्राउंड पर उतर कर जनता की समस्या जानने का प्रयास किया। कलेक्टर ऋचा ने दुर्ग निगम आयुक्त लोकेश चन्द्राकर एवं निगम अफसरों के साथ मॉर्निंग विजिट के दौरान नगर पालिक निगम सीमा क्षेत्र अंतर्गत रायपुर नाका ओवरब्रिज के सामने जीरो वेस्ट सेंटर एवं वार्ड 60 व वार्ड 21 सिंधिया नगर पहुंचे जहां उन्होंने नालियों एवं सड़क की सफाई कार्य व्यवस्थाओं का अवलोकन किया। नाली एवं सड़को की सफाई को निरन्तर करने की बात कही, उन्होंने सफाई के लिए स्वास्थ्य अधिकारी को हर वार्ड में रोस्टर के अनुरूप सफाई करवाने के निर्देश दिए। इसके साथ ही उन्होंने 42 एवं 24 एमएलडी फिल्टर प्लांट का औचक निरीक्षण किया। इस दौरान उन्होंने फिल्टर बेड, एरीएशन चेंबर, वाश वाटर एवं फिल्टर प्लांट के अन्य स्थानों में पहुंचकर जल शुद्धिकरण के लिए अपनाए जा रहे पूरे कार्यों का अवलोकन कर सम्पूर्ण प्रक्रिया को समझा।

डोर टू डोर कलेक्शन में कचरा नहीं देने वाले को जारी होगा नोटिस
विजिट के दौरान कलेक्टर चौधरी ने वार्ड 21 के नागरिकों से चर्चा की और उनकी समस्यों से रूबरू होकर जल्द निराकरण करवाने के लिए संबंधित अधिकारियों को निर्देश दिये, उसके बाद कलेक्टर ऋचा प्रकाश चौधरी द्वारा मणि कंचन (जीरो वेस्ट सेंटर) केंद्र वार्ड 60 में पहुँचकर निरीक्षण करते हुए सेंटर सुपरवाइजर एवं स्वच्छता दीदियों से कचरे से निकलने वाले कचरे के प्रकार और कुल मात्रा की जानकारी ली गई। साथ ही शहर के वार्डों से कचरा संग्रहण की जानकारी ली गई। जीरो वेस्ट की सुपर वाइजर ने बताया कि 4 वार्डों से कुल 1123 घर से 4.8 टन कचरे को प्रोसेसिंग किया जाता है। वार्ड में सर्वे के दौरान डोर टू डोर कलेक्शन में कचरे नही दिए जाते है, जिस पर कलेक्टर ने कहा कि जिनके द्वारा डोर टू डोर कलेक्शन में कचरा नही दिया जाता उन्हें नोटिस जारी कर जुर्माना वसूल किया जाए।

नाली से लेकर लाइटिंग व्यवस्था दुरुस्त करने के निर्देश
कलेक्टर ने निरीक्षण के मौके पर नाली सफाई कार्य का निरीक्षण करते हुए मौजूद अधिकारी से कहा कि जितनी भी नालियां जाम की स्थिति में बनी हुई है उन सभी नालियों को चिन्हित कर निकासी के लिए बेहतर व्यवस्था बनाये, सफाई व्यवस्था को और भी बेहतर बनाये एवं सड़क किनारे झिल्ली, पन्नी फेकने वाले ठेले-खोमचे पर जुर्माने की कार्रवाही करें, निरीक्षण के दौरान शहर में प्रकाश व्यवस्थाओं को लेकर निगम आयुक्त लोकेश चन्द्राकर को निर्देश देते हुए कहा कि गली मोहल्ले की स्ट्रीट लाइट जहां बंद पड़ी हो तत्काल सुधारकर प्रकाश व्यवस्था बनाये। निरीक्षण के दौरान कार्यपालन अधिकारी दिनेश नेताम, स्वास्थ्य अधिकारी जावेद अली, मोहित मरकाम,नारायण ठाकुर सहित अन्य अधिकारीगण मौजूद रहें।

एमएलडी फिल्टर प्लांट के औचक निरीक्षण
42 एवं 24 एमएलडी फिल्टर प्लांट के औचक निरीक्षण के दौरान उन्होंने फिल्टर बेड, एरीएशन चेंबर, वाश वाटर एवं फिल्टर प्लांट के अन्य स्थानों में पहुंचकर जल शुद्धिकरण के लिए अपनाए जा रहे पूरे कार्यों का अवलोकन कर सम्पूर्ण प्रक्रिया को समझे। जल शुद्धीकरण की प्रत्येक विधि का जायजा लेते हुए,नगर पालिक निगम क्षेत्र के हर वार्ड में शुद्ध पेयजल की व्यवस्था निरंतरता बनी रहे इसके लिए उपस्थित अधिकारियों को निर्देश दिए। फिल्टर प्लांट के लैब में पहुंचकर केमिस्ट से चर्चा करते हुए उन्होंने पानी में पाए जाने वाले तत्वों और टर्बिडिटी की जांच को गंभीरता से करने के निर्देश दिए। नगर पालिक निगम क्षेत्र के नागरिकों को शुद्ध पेयजल मिलता रहे इसके लिए जलकार्य विभाग की टीम पूरी मुस्तैदी से अपने कार्य में जुटी हुई है। कलेक्टर ऋचा प्रकाश चौधरी ने कहीं भी विशुद्ध पानी न पहुंचे इसके लिए पानी सेंपल जांच के साथ ही सभी जोन क्षेत्रों से रेंडम जांच करने के निर्देश भी दिए।

वाटर टेस्टिंग लैब पहुंची कलेक्टर
अधिकारियों ने बताया कि फिल्टर प्लांट मे शिवनाथ नदी से आने वाले पानी से लेकर डिस्ट्रीब्यूशन वाटर के सैंपल तक की प्रक्रिया का अवलोकन किया। जल शुद्धिकरण के इस्तेमाल में उपयोग होने वाले क्लोरीन, ब्लीचिंग एवं अन्य संसाधनों की उपलब्धता की जानकारी ली। वाटर टेस्टिंग लैब में पहुंचकर संधारित पंजियों का तिथि अनुसार अवलोकन किए। निगम आयुक्त ने प्रतिदिन पानी टंकी और अंतिम छोर के जल स्रोत से लिए जाने वाले सेम्पल के पानी टेस्टिंग की रिकॉर्ड व्यवस्थित करने कहा। फिल्टर प्लांट में नदी से आ रहे रॉ वाटर और सप्लाई होने वाले क्लियर वाटर की जानकारी लेते हुए लैब में केमिस्ट से रोज़ाना हो रहे टेस्ट रिपोर्ट की जानकारी मांगी और आटोमेटिक स्काडा सिस्टम की जानकारी कंप्यूटर के माध्यम से लिए, उन्होंने कहा सभी टंकियो में हो रही क्लियर वाटर सप्लाई में इस्तेमाल हो रहे मोटर पंप की क्षमता के बारे में अधिकारियों से जानकारी रिपोर्ट पूछे।निरीक्षण के दौरान कार्यपालन अभियंता दिनेश नेताम, स्वास्थ्य अधिकारी जावेद अली, उपअभियंता मोहित मरकाम, जलकार्य निरीक्षक नारायण ठाकुर व अन्य अधिकारीगण मौजूद रहें।

खबरें और भी हैं...
संबंधित

CG – महिला से छेड़छाड़ का लगा आरोप… युवक...

महिला से छेड़छाड़ का लगा आरोप क्राइम डेस्क। छत्तीसगढ़ के कबीरधाम जिले में हत्या का मामला सामने आया है। यह मामला जिले के कुकदूर थाना...

छत्तीसगढ़ में एक दर्जन नक्सली ढेर! शंकर राव सहित...

कांकेर। छत्तीसगढ़ में सुरक्षा बालों और नक्सलियों के बीच बड़ी मुठभेड़ की खबर सामने आ रही है। बताया जा रहा है कि, पुलिस ने...

डॉक्टर, वकील और टीचर्स की बैठक के बाद MLA...

भिलाई। दुर्ग जिले के वैशाली नगर विधानसभा से भाजपा को एक लाख से अधिक मतों के अंतर से लीड दिलाने विधायक रिकेश सेन और...

रायपुर में इंटर स्कूल कराते चैंपियनशिप में रिसाली के...

रायपुर, रिसाली। राजधानी रायपुर के रामनगर कोटा के एक निजी स्कूल में इंटर स्कूल कराते प्रतियोगिता 2024 का आयोजन 13 और 14 अप्रैल को...

ट्रेंडिंग