Durg Police ने सॉल्व किया Bhilai का Murder Case: निर्मम हत्या के बाद स्कूटी से बांधकर तालाब में डेड बॉडी किया डंप… आरी से पैर भी काटा, तीनों आरोपी अरेस्ट; दुर्ग SP शलभ सिन्हा ने PC में किया खुलासा

mBभिलाई। छत्तीसगढ़ के वीवीआइपी जिले दुर्ग के भिलाई में निर्मम हत्या का मामला सामने आया है। एक व्यक्ति की स्कूटी से बंधी हुई लाश खदान के तालाब से बरामद हुई थी। डेड बॉडी को स्कूटी से बांध कर तलाब में फेंका गया। प्रथम दृष्टि से ही यह हत्या का मामला लग रहा था। दुर्ग पुलिस ने चंद घंटों के अंदर एक आरोपी को गिरफ्तार कर लिया था। 48 घंटे के अंदर पुलिस ने बचे हुए दो आरोपी को भी गिरफ्तार कर प्रेस कांफ्रेंस में मामले का खुलासा किया है।

आरोपियों द्वारा मामले को गुमराह करने के लिए ऑनलाइन सट्टा बुक महादेव का सहारा लिया जा रहा था। पूर्ण रूप से हत्या का कारण पैसे का लेन देन है। मृतक का अपहरण कर बेरहमी से उसे मौत के घाट उतार दिया गया। तीनों गिरफ्तार आरोपी आदतन अपराधी किस्म के है। इस मामले में सीसीटीवी फुटेज भी सामने आया है। जिसमें आरोपियों को दुकान से आरी लेते हुए देखा जा सकता है। जिसे वे हत्या के लिए इस्तेमाल किए थे। पूरा मामला पुरानी भिलाई थाना क्षेत्र का है।

आरोपियों ने हत्या कर मृतक के शव को बोरी में भरकर मेस्ट्रो वाहन सहित मयुरा कंपनी के पीछे खादान तालाब में फेंक दिया था। पुलिस पार्टी के द्वारा लगातार आरोपियों का पीछा कर गिरफ्तार करने में सफलता मिली है। गिरफ्तार आरोपियों के कब्जे से मृतक का मोबाईल फोन एवं घटना में प्रयुक्त मोबाईल फोन, सिम, ऑरी और वाहन बरामद किया गया है। आरोपीगण पूर्व में हत्या, लूट एवं एनडीपीएस के मामलों में जेल जा चुके है।

गिरफ्तार आरोपियों के नाम :-

  1. आशीष तिवारी, उम्र 34 साल, निवासी जामुल।
  2. रजनीष पाण्डेय उर्फ उम्र, 30 साल, निवासी खुर्सीपार
  3. अनुज तिवारी उर्फ लाला, उम्र 19 साल, निवासी खुर्सीपार

पुलिस की प्रेस नोट के अनुसार समझते हैं पूरा मामला :-

पुलिस के अनुसार, दिनांक 01.06.2023 को प्रार्थी विमला साहू पति ओम प्रकाश साहू निवासी एकता नगर पुरानी भिलाई थाना पुरानी भिलाई जिला दुर्ग में उपस्थित होकर रिपोर्ट दर्ज करायी कि दिनांक 31.05.2023 की शाम लगभग 07ः30 बजे मेरे पति ओम प्रकाष साहू घर से निकला था, जो देर रात तक घर वापस नहीं आया कि रात्रि 11.45 बजे अज्ञात नम्बर से फोन आया था जिससे बात नहीं हुयी फिर उसके अपने पति के मोबाईल नम्बर पर अपने बेटी के मोबाईल से फोन लगायी तो फोन नहीं लगा तो उन्हें मैसेज किये। दिनांक 01.06.2023 को सुबह 10.15 बजे पति के मोबाईल से फोन आया जिसमें अज्ञात व्यक्ति के द्वारा कहा गया कि तुम्हारा पति मेरे सट्टे का 30 लाख रूपये चुना लगया है मैं दो दिन का समय दे रहा हूँ मेरे सट्टे का 30 लाख रूपये मुझे दे दो नहीं तो तुम्हारे पति का डेड बॉडी तुम्हारे घर भेज दूंगा, अगर पुलिस के पास गये तो तुम्हारे पति का डेड बॉडी तुम्हारे घर पहुँच जायेगा, तुम्हारा पति मेरे कब्जे में है कि रिपोर्ट पर थाना पुरानी भिलाई में अपराध क्रमांक 176/2023 धारा 365 भादवि का पंजीबद्ध कर विवेचना में लिया गया।

उपरोक्त अपहरण एवं फिरौती से जुड़ी सनसनीखेज घटना को अत्यन्त गंभीरता से लेते हुए पुलिस अधीक्षक शलभ सिन्हा (भा.पु.से.) के द्वारा प्रकरण के आरोपियों की शीघ्र पतासाजी कर गिरफ्तारी करने के संबंध में निर्देश प्राप्त हुए। जिसके परिपालन में नोडल अधिकारी सायबर सेल प्रभात कुमार (भापुसे), अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक (ग्रामीण) अनंत साहू (रा.पु.से.), नगर पुलिस अधीक्षक (भिलाई नगर) निखिल राखेचा (भापुसे), नगर पुलिस अधीक्षक (छावनी) आषीष कुमार बंछोर (रा.पु.से.), उप पुलिस अधीक्षक (क्राईम) राजीव शर्मा (रा.पु.से.) के मार्गदर्शन में एवं ए.सी.सी.यू प्रभारी निरीक्षक संतोष मिश्रा तथा थाना प्रभारी पुरानी भिलाई निरीक्षक मनीष शर्मा एवं थाना प्रभारी खुर्सीपार निरीक्षक विरेन्द्र श्रीवास्तव के नेतृत्व में एक संयुक्त टीम गठित कर टीम को कार्यवाही हेतु लगाया गया।

टीम के द्वारा प्रार्थिया से संपर्क कर विस्तृत पूछताछ कर घटना के संबंध में आवष्यक जानकारी जुटाई गयी। तकनीकी आधार पर पतासाजी के प्रयास किये गये जिसके परिणाम स्वरूप कुछ संदेहियों के मोबाईल नम्बर प्राप्त हुए। उक्त मोबाईल नम्बरों का सूक्ष्मता से विष्लेषण करने पर मुख्य संदेही आशीष तिवारी की घटना में संलिप्तता परिलक्षित हुयी जिससे मुख्य संदेही के संबंध में और भी आवश्यक जानकारी एकत्रित कर टीम को पतासाजी हेतु लगाया गया। टीम द्वारा मुख्य संदेही आषीष तिवारी निवासी घांसीदास नगर जामुल को घेरा बंदी कर पकड़कर पूछताछ किया गया, जो कि प्रारंभिक पूछताछ पर कई घंटों तक गुमराह करता रहा किन्तु तकनीकी आधार पर तथ्यात्मक पूछताछ करने पर डकैती के प्रकरण में सेन्ट्रल जेल दुर्ग में निरूद्ध रहने के दौरान एकता नगर भिलाई 03 निवासी ओम प्रकाष साहू से जेल से ही जान पहचान होना, ओम प्रकाष साहू के जमानत पर छुट जाने के बाद उसके द्वारा पिता सूर्य प्रताप तिवारी से मेरे जमानत के लिए 30 हजार रूपये लिया था और जमानत भी नहीं कराया था।

जेल में रहने के दौरान और जेल से बाहर आने के बाद भी ओम प्रकाश के द्वारा जमानत कराने के लिये दिये गये पैसे एवं अन्य कुछ लेन देन के लगभग 1.50 लाख रूपये लौटाने से मना किया गया जिससे आषीष तिवारी क्षुब्ध था। अपने पैसों के साथ साथ आशीष की फिरौती के भी बहुत पैसे ओम प्रकाष से निकलवाना चाहता था। जिससे वह अपने साथी रजनीष पाण्डेय एवं अनुज तिवारी निवासी खुर्सीपार के साथ मिलकर ओम प्रकाष साहू की फिरौती के लिए अपहरण की योजना बनायी। योजना के मुताबिक दिनांक 13.05.2023 को एक बीएसएनएल का सीम अपने के साथी के माध्यम से खरीदकर एकटिवेट किया और दिनांक 31.05.2023 की शाम 05ः30 बजे उसी नम्बर से ओम प्रकश साहू को फोन कर उमंदा शराब भट्टी के पास मिलने बुलाया जहाँ पर अपने उपरोक्त दोनों साथियों के साथ रजनीष की मोटर सायकल में उमंदा शराब भट्टी गया।

जहाँ पर ओम प्रकाष साहू अपने मेस्ट्रो वाहन से वहाँ पर आया, उसके बाद शराब व चखना लेकर चारों लोगा खदान के पास गये और वहीं पर शराब पीये, उसके बाद थोड़ा नषा हो जाने पर चारों लोग मेरे द्वारा पहले से किराये पर लिये गये उमंदा स्थित मकान में गये जहाँ पर फिर से चारों लोग शराब पीये। अत्यधिक नषा हो जाने पर वहीं सो गये, सुबह 04ः00 बजे तीनों फिर से उठे और आपस में बातचीत कर पूर्व योजना अनुसार गला दबाकर एवं मुंह नाक बंद कर दिया। जिससे कुछ ही देर में ओम प्रकाश की मृत्यु हो गयी। हत्या के बाद तीनों शव के वहीं छोड़कर चले गये और दो अलग अलग समय पर परिवार को फिरौती के लिए फोन किया। शाम के समय बाजार से आरी और बोरा लेकर फिर से उमंदा किराये के मकान में गये जहॉ पर ओम प्रकाष का शव बोरे में नहीं आ रहा था जिससे उसके दोनों पैरों को ऑरी से काटकर मोड़ दिये, सिर और पैर को जीआई तार से बांध दिये। उसकी बॉडी को जुट की बोरी में भरकर बोरी का मुंह बांधकर तीनों मिलकर ओम प्रकाष की मेस्ट्रो गाड़ी को घर के अंदर ले जाकर उसकी बॉडी को बोरी सहित गाड़ी के सामने में रखकर बोरी को मेस्ट्रों गाडी में नायलोन रस्सी से बांधे और ठिकाने लगाने के लिये अनुज तिवारी चलाते हुए लेकर गया मैं पीछे बैठा हुआ था।

रजनीश पाण्डेय अपनी मोटर सायकल से आगे आगे गया। मयुरा कंपनी के पीछे खादान तालाब में गये और ओम प्रकाष साहू की बॉडी को गाड़ी सहित खादान तालाब में ढकेल दिये और रजनीष की मोटर सायकल से वापस आ गये। मैं पुलिस को गुमराह करने के लिये ओम प्रकाष के घर वालों को महादेव सट्टा का पैसा लेने की बात किया था। आरोपी आषीष तिवारी के पूछताछ के उपरांत प्रकरण के अन्य आरोपी रजनीष पाण्डेय एवं अनुज तिवारी की पतासाजी की गयी जो की घटना के बाद अपने गांव रीवा भागने के संबंध में पता चला। तकनीकी आधार पर पतासाजी करने पर उक्त दोनों आरोपियों की उपस्थिति नागपुर रेल्वे स्टेषन के आसपास होना पता चला। जिससे नागपुर रेल्वे पुलिस के सहयोग से आरोपी रजनीष पाण्डेय एवं अनुज तिवारी पकड़ने में सफलता प्राप्त हुयी। पूछताछ करने पर उक्त दोनों आरोपियों के द्वारा अपने साथी आषीष तिवारी के साथ मिलकर पैसे के लेने देन के नाम पर हत्या की घटना को अंजाम देना स्वीकार किये। आरोपियों की निषान देही पर मृतक का शव, मेस्ट्रो वाहन, मोबाईल फोन, हत्या की घटना में प्रयुक्त मोबाईल फोन, ऑरी एवं मोटर सायकल बरामद कर जप्त किया गया। आरोपी को गिरफ्तार कर अग्रिम कार्यवाही थाना पुरानी भिलाई से की जा रही है। उक्त कार्यवाही में थाना पुरानी भिलाई, खुर्सीपार, जामुल व एन्टी क्राईम व सायबर युनिट दुर्ग के अधिकारी/कर्मचारियों की उल्लेखनीय भूमिका रही।

खबरें और भी हैं...
संबंधित

बलौदाबाजार कलेक्टर दीपक सोनी की अपील: DM ने जिलेवासियों...

बलौदाबाजार। बलौदाबाजार कलेक्टर दीपक सोनी ने सोमवार को अवैधानिक, गैर कानूनी अथवा लोक शांति भंग करने वालों की जानकारी कंट्रोल रूम में देने की...

CM साय अपने चचेरे भाई के दशगात्र कार्यक्रम में...

रायपुर। छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री विष्णुदेव साय सोमवार को अपने गृह जिले जशपुर के ग्राम बन्दरचुंआ पहुंचे। यहां वे अपने चचेरे भाई एवं जशपुर नगर...

बस्तर संभाग के इन तीन जिलों के तेन्दूपत्ता संग्राहकों...

सुकमा, बीजापुर और नारायणपुर जिले के तेन्दूपत्ता संग्राहकों को किया जाएगा नगद भुगतान इन जिलों में बैंकों की शाखाएं दूर होने की वजह से CM...

100 साल से अधिक पुराना हुआ दुर्ग का हिन्दी...

दुर्ग। दुर्ग में संभागीय आयुक्त कार्यालय का पता अब बदलने वाला है। आपको बता दें, 29, अप्रैल 2014 से दुर्ग संभाग नव गठित होकर...

ट्रेंडिंग