छत्तीसगढ़ में 28 फर्जी फार्मासिस्टों पर FIR: फर्जी डिग्री के आधार पर फार्मेसी काउंसलिंग में रजिस्ट्रेशन कराने वाले 28 पर एफआइआर दर्ज… कई राज्यों से जुड़े हुए हैं इनके तार… दुर्ग, रायपुर सहित कई जिलों से 10 से ज्यादा लोगों को लिया गया हिरासत में

FIR on 28 fake pharmacists in Chhattisgarh

रायपुर। छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर से बड़ी खबर आ रही है। छत्तीसगढ़ स्टेट फार्मेसी काउंसिल में फर्जी डिग्री के आधार पर रजिस्ट्रेशन कराने वाले 28 फार्मासिस्‍टों के खिलाफ तेलीबांधा थाने में एफआइआर दर्ज की गई है। राजस्थान, बिहार, मध्यप्रदेश और उत्तर प्रदेश के विश्वविद्यालयों की फर्जी डिग्री के आधार पर छत्तीसगढ़ स्टेट फार्मेसी काउंसिल में रजिस्ट्रेशन करवाया गया था। रायपुर, सूरजपुर और दुर्ग से 10 से ज्यादा लोगों को हिरासत में भी ले लिया है।

मिली जानकारी के अनुसार, ये सभी फर्जी फार्मासिस्टों के पास अन्य राज्यों की फार्मसी कॉलेज की डिग्री मौजूद है और इन्हीं फर्जी डिग्रियों के आधार पर उन लोगों ने अपना रजिस्ट्रेशन कराने के लिए काउंसिल में आवेदन दिया था। इसमें बड़ी संख्या में प्रदेश के विभिन्न जिलों में रहने वाले कथित फार्मासिस्ट शामिल हैं।

अब तक पुलिस ने 1 दर्जन लोगों को हिरासत में लिया है
बता दें कि ये लोग रजिस्ट्रेशन के बाद मेडिकल दुकानों में लाइसेंस बेच देते हैं और इसके एवज में इन्हें मोटी रकम मिलती है। वहीं मेडिकल स्टोर का लाइसेंस देने के लिए ड्रग इंस्पेक्टरों और अधिकारियों की सेटिंग से वे अपना लाइसेंस किराए पर दे देते हैं, जिससे सालाना बिना किसी मेहनत के इनके हाथ मोटी रकम लगती है। वहीं इस मामले में और भी कई चौकाने वाले खुलासे होने की संभावनाएं जताई जा रही है। अब तक पुलिस ने 28 लोगों में से करीब 1 दर्जन लोगों को हिरासत में ले लिया है और उनसे पूछताछ कर रही है।

इनके खिलाफ नामजद एफआईआर दर्ज की गई है
उनके नाम कुछ इस तरह हैं – रमाकांत निषाद, खकन कुमार विश्वास, शीतल कुमार, सोनी मिश्रा, पवन रूंचदानी, राजनांदगांव, श्वेता विश्वकर्मा, छुट्टन विश्वास, सूरज कुमार,, रूखसार खातून, तुला राम साहू, ममता अग्रवाल, रजनी यादव, चंद्रेश कुमार साहू, दामेश्वर कुमार साहू, बाजू राम ओयम, मनोज कुमार चक्रधारी, रोशन साहू, संजय कुशवाहा, अनुदिव्या टांडिया, रविंद्र कुमार साहू, राधिका साहू, खेम लाल धीवर, रमेश साहू, रविंद्र कुमार, फूलचंद, द्वारिका प्रसाद वर्मा, अनामिका गुप्ता सहित अन्य पर एफआईआर दर्ज की गई है।

सत्यापन में मिली खामियां
सत्यापन के दौरान दस्तावेज गिरोह के माध्यम से फार्मेसी डिग्री-डिप्लोमा हासिल कर छत्तीसगढ़ स्टेट फार्मेसी काउंसिल में पंजीयन कराना। जाली, फर्जी व कूटरचित दस्तावेजों के आधार पर संबंधित विश्वविद्यालय व छत्तीसगढ़ स्टेट फार्मेसी काउंसिल के साथ धोखाधड़ी व गुमराह करने और छत्तीसगढ़ के छात्र-छात्राओं के भविष्य से खिलवाड़ किए जाने के प्रकरण के आधार पर एफआईआर दर्ज कराने पत्र लिखा गया। जिसके आधार पर एफआइआर दर्ज की गई।

इस तरह फर्जीवाड़ा
फर्जी दस्तावेजों के आधार पर सन राइस यूनिवर्सटी, पीके यूनिवर्सिटी, जेएस यूनिवर्सिटी, स्वामी विवेकानंद यूनिवर्सिटी सागर, मोनाद यूनिवर्सिटी, वाईबीएन यूनिवर्सिटी रांची के सत्य साईं यूनिवर्सिटी सिहोर, ओपीजेएस यूनिवर्सिटी, श्रीधर यूनिवर्सिटी पिलानी सहित अन्य राज्यों के फार्मेसी काउंसिल में पंजीयन के बाद छत्तीसगढ़ में फर्जी तरीके से पंजीयन कराने वाले उत्तरप्रदेश फार्मेसी काउंसिल लखनऊ, राजस्थान फार्मेसी काउंसिल जयपुर के साथ पीपीजी कालेज आफ फार्मेसी के 28 डिप्लोमा फार्मेसी के छात्र शामिल हैं।

रायपुर के तेलबांधा थाना के टीआइ उमेंद्र टंडन ने कहा, फार्मेसी काउंसिल में फर्जी डिग्री के आधार पर रजिस्ट्रेशन कराने की शिकातय मिली थी। जिसके आधार पर जांच की गई। इसमें दस्तावेज फर्जी पाए जाने के बाद अपराध दर्ज किया गया गया है।

खबरें और भी हैं...
संबंधित

एक बार फिर से विवादों में अशोका बिरयानी: इस...

भिलाई। अशोक बिरयानी फिर से विवादों में हैं। इस बार रायपुर नहीं भिलाई का अशोका बिरयानी सेंटर खबरों में है क्योकि, यहां वेज खाने...

भिलाई के पेट्रोल पंप में चाकूबाजी करने वाले 5...

भिलाई। भिलाई के स्मृति नगर चौकी क्षेत्र में आने वाले बटालियन पेट्रोल पंप में चाकूबाजी करने वाले 5 आरोपियों को पुलिस ने गिरफ्तार कर...

बलौदाबाजार आगजनी की घटना का मुख्य आयोजक गिरफ्तार! पुलिस...

आरोपी किशोर नवरंगे भीम क्रांतिवीर नामक संगठन का है संस्थापक पूर्व में भी रेजीमेंट का जिला अध्यक्ष था घटना में शामिल अन्य आरोपियों को पकड़ने...

प्रॉपर्टी टैक्स नहीं पटाने वालों के खिलाफ कुर्की वारंट...

भिलाई। भिलाई निगम क्षेत्र में 56 भवन स्वामियों द्वारा लंबे समय से संपत्तिकर की राशि जमा नहीं की गई है। इस पर आयुक्त ने...

ट्रेंडिंग