Bhilai Times

2 माह के बेटे को दूध पिलाकर फंदे में झूल गई इंजीनियर मां: शंकराचार्य मेडिकल कॉलेज में पोस्टेड डॉक्टर से 2 साल पहले हुई थी शादी…इंग्लिश में लिखा सुसाइडल नोट, दुर्ग पुलिस कर रही जांच

2 माह के बेटे को दूध पिलाकर फंदे में झूल गई इंजीनियर मां: शंकराचार्य मेडिकल कॉलेज में पोस्टेड डॉक्टर से 2 साल पहले हुई थी शादी…इंग्लिश में लिखा सुसाइडल नोट, दुर्ग पुलिस कर रही जांच

भिलाई। सुसाइड के मामले बढ़ रहे हैं। लोग तनाव में कुछ भी कदम उठा रहे हैं। इसे लेकर एक चिंता बनी हुई है। मनोरोग से जुड़े एक्सपर्ट्स डॉक्टर अपनी रिपोर्ट इस बात की पुष्टि कर चुके हैं कि कोरोनाकाल में तनाव बढ़े हैं। वहीं आज की युवा पीढ़ी भी तनाव को झेल नहीं पा रही है। आजकल के युवा जल्दी फैसला ले रहे हैं।

जबकि, जिंदगी बहुत बड़ी है। इस बड़ी जिंदगी में छोटी समस्याओं का सामना लोग नहीं कर पा रहे हैं। आज ये सब बातें हम एक मामले को लेकर कर रहे हैं।

दरअसल, रायपुर में CSPDCL (छत्तीसगढ़ राज्य विद्युत वितरण कंपनी ) में कार्यरत असिस्टेंट इंजीनियर शिल्पा चंद्राकर (21 वर्ष) ने फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली।

दुर्ग के पंचशील नगर स्थित अपने घर में फांसी लगाई है। शिल्पा बिजली कंपनी में एई थीं। वहीं शंकराचार्य मेडिकल कॉलेज में पदस्थ डॉक्टर निखिल कौशिक की पत्नी थी। शिल्पा और निखिल का दो महीने का एक बेटा भी है। जिसे दूध पिलाने के बाद वह फंदे में झूल गई।

पुलिस की प्रारंभिक जांच की माने तो महिला के पास से एक सुसाइड नोट मिला है। उसमें उसने लिखा है कि इट इज माय फॉल्ट, एंड आई एम रिस्पांसिबल फॉर इट( मतलब ये मेरी गलती है, मैं जिम्मेदार हूं)। इतना लिखकर वह फंदे में झूल गई। पद्मनाभपुर पुलिस मामले की जांच कर रही है।

बेटे को दूध पिलाकर सुलाया
पुलिस के मुताबिक शिल्पा ने मरने से पहले दो माह के बेटे को दूध पिलाकर दूसरे कमरे में सुला दिया था। इसके बाद खुद फंदे में लटक गई। उसने इतना बड़ा कदम क्यों उठाया इसका पता करने के लिए पुलिस परिजनों व पड़ोसियों से पूछताछ कर रही है। फिलहाल पुलिस ने पति पत्नी के बीच किसी भी प्रकार के विवाद की पुष्टि नहीं की है।

पुलिस अधिकारियों ने बताया है कि, शिल्पा चंद्राकर का शव मंगलवार दोपहर उनके घर में फांसी के फंदे पर लटका मिला था। शिल्पा बीएसपी एंप्लाई कुलेश्वर प्रसाद चंद्राकर की बेटी थी।

दो साल पहले 2020 में उसकी शादी डॉ. निखिल कौशिक से हुई थी। निखिल शंकराचार्य मेडिकल कॉलेज में पदस्थ हैं। डेढ़-दो महीने पहले दोनों की एक बेटा हुआ है।

पुलिस के मुताबिक डॉ. निखिल मंगलवार सुबह 8.20 बजे अस्पताल के लिए निकले थे। शिल्पा ने उन्हें ब्रेकफास्ट भी बनाकर दिया था। इसके बाद लगभग दो घंटे बाद उनके पड़ोसी ने फोन किया वह लोग काफी देर से बेल बजा रहे हैं,

लेकिन अंदर से कोई जवाब नहीं दे रहा है। इस पर डॉ. निखिल तुरंत अपने घर पहुंचे। उन्होंने घर के अंदर जाकर देखा तो शिल्पा फांसी के फंदे पर लटकी थी।


Related Articles