नहीं रहे शकुनि मामा: नींद में ही चल बसे गूफी पेंटल… जानिए कैसे हुई मौत? द्रोणाचार्य की भूमिका निभाने वाले अभिनेता सुरेंद्र ने कहा – महाभारत के एक अध्याय का अंत हो गया

डेस्क। बीआर चोपड़ा के टीवी सीरियल ‘महाभारत’ (1980) में शकुनि का किरदार निभाकर कामयाबी हासिल करने वाले एक्टर गूफी पेंटल ने दुनिया को अलविदा कह दिया है। उन्होंने सोमवार, 5 जून को आखिरी सांस ली। उनकी उम्र 78 साल थी। वो पिछले कई दिनों से बीमार थे। पहले उन्हें फरीदाबाद के हॉस्पिटल में एडमिट कराया गया था, बाद में हालत बिगड़ने पर उन्हें मुंबई शिफ्ट किया गया, जहां वो ICU में थे। उम्र से संबंधित हेल्थ इश्यूज और हार्ट फेल होने के कारण उनकी मौत हो गई। उनके पार्थिव शरीर का अंतिम संस्कार आज शाम को चार बजे किया जाएगा। गूफी के निधन से सभी को गहरा सदमा लगा है। जाने-माने सिलेब्स सोशल मीडिया पर दुख व्यक्त कर रहे हैं। ‘महाभारत’ में द्रोणाचार्य की भूमिका निभाने वाले अभिनेता सुरेंद्र पाल दुखी मन से कहते हैं, ‘महाभारत’ के एक अध्याय का आज अंत हो गया।

गूफी पेंटल के भतीजे हितेन पेंटल ने न्यूज एजेंसी पीटीआई को बताया, ‘दुर्भाग्य से, वह अब नहीं रहे। अस्पताल में सुबह करीब 9 बजे उनका निधन हो गया। उनका हार्ट फेल हो गया। नींद में ही उनका निधन हो गया।’

हॉस्पिटल में हालत थी गंभीर
इंडियन एक्सप्रेस को दिए फैमिली के स्टेटमेंट के मुताबिक, ‘गहरे दुख के साथ हम अपने पिता मिस्टर गूफी पेंटल (शकुनि मामा) के निधन की घोषणा करते हैं। आज सुबह परिवार के बीच उनका निधन हो गया।’ हितेन पेंटल ने कहा, ‘उन्हें हाल ही में हॉस्पिटल में एडमिट कराया गया था और उनकी हालत गंभीर थी।’

लंबे समय से बीमार थे गूफी
इससे पहले हितेन ने पीटीआई को बताया था कि उनके चाचा उम्र से संबंधित स्वास्थ्य समस्याओं के कारण ठीक नहीं थे। उन्होंने कहा था, ‘उन्हें ब्लड प्रेशर और हार्ट इश्यूज थे। वो बीमार चल रहे थे और यह सब कुछ काफी समय से चल रहा था। अब हालात गंभीर हो गई, इसलिए हम उन्हें निगरानी के लिए हॉस्पिटल ले गए।’ तब हितेन ने बताया था कि वो 7-8 दिन तक हॉस्पिटल में ही थे, उनकी हालत गंभीर थी, लेकिन फिर स्थिर होने लगी थी।

खबरें और भी हैं...
संबंधित

बलौदाबाजार कलेक्टर दीपक सोनी की अपील: DM ने जिलेवासियों...

बलौदाबाजार। बलौदाबाजार कलेक्टर दीपक सोनी ने सोमवार को अवैधानिक, गैर कानूनी अथवा लोक शांति भंग करने वालों की जानकारी कंट्रोल रूम में देने की...

CM साय अपने चचेरे भाई के दशगात्र कार्यक्रम में...

रायपुर। छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री विष्णुदेव साय सोमवार को अपने गृह जिले जशपुर के ग्राम बन्दरचुंआ पहुंचे। यहां वे अपने चचेरे भाई एवं जशपुर नगर...

बस्तर संभाग के इन तीन जिलों के तेन्दूपत्ता संग्राहकों...

सुकमा, बीजापुर और नारायणपुर जिले के तेन्दूपत्ता संग्राहकों को किया जाएगा नगद भुगतान इन जिलों में बैंकों की शाखाएं दूर होने की वजह से CM...

100 साल से अधिक पुराना हुआ दुर्ग का हिन्दी...

दुर्ग। दुर्ग में संभागीय आयुक्त कार्यालय का पता अब बदलने वाला है। आपको बता दें, 29, अप्रैल 2014 से दुर्ग संभाग नव गठित होकर...

ट्रेंडिंग