Bhilai Times

बदले गए दुर्ग यूनिवर्सिटी के रजिस्ट्रार: भूपेंद्र कुलदीप संभालेंगे कमान…सरकार ने जारी किया आदेश

बदले गए दुर्ग यूनिवर्सिटी के रजिस्ट्रार: भूपेंद्र कुलदीप संभालेंगे कमान…सरकार ने जारी किया आदेश

भिलाई। हेमचंद यादव विश्वविद्यालय में बतौर रजिस्ट्रार कमान अब भूपेंद्र कुलदीप संभालेंगे। पं. रविशंकर शुक्ल विश्वविद्यालय में उप कुलसचिव के पद पर कार्यरत भूपेंद्र कुलदीप को पदोन्नत करते हुए हेमचंद विवि का कुलसचिव नियुक्त किया गया है। वे आने वाले दो-तीन दिनों में कार्यभार ग्रहण करेंगे। राज्य शासन ने बुधवार को देर शाम उनकी नई नियुक्ती का आदेश जारी कर दिया। बता दें कि विवि के डीएसडब्ल्यू डॉ. प्रशांत श्रीवास्तव को अस्थाई तौर पर प्रभारी कुलसचिव की जिम्मेदारी दी गई थी। रजिस्ट्रार कुलदीप के कार्यभार ग्रहण करने के साथ ही डॉ. प्रशांत को पद मुक्त कर दिया जाएगा। प्रभारी कुलसचिव डॉ. प्रशांत श्रीवास्तव को विवि में दो वर्षों के लिए प्रतिनियुक्ति पर नियुक्त किया गया था। यानी विवि में बतौर डीएसडब्ल्यू भी उनका कार्यकाल खत्म हो गया है। विवि ने इस संबंध में उच्च शिक्षा विभाग को सूचना जारी कर दी है, जिसको लेकर अभी तक कोई आदेश नहीं मिला है। इस तरह नए रजिस्ट्रार के पदभार ग्रहण करने के साथ ही डॉ. प्रशांत श्रीवास्तव को मूल पद साइंस कॉलेज, दुर्ग में वापस भेजा जा सकता है।

डीयू के फाउंडर मेंबर रहे हैं कुलदीप
साल 2015 में हेमचंद विवि की स्थापना के वक्त राज्य शासन की ओर से दिए गए प्रशासनिक सेटअप में भूपेंद्र कुलदीप ने विवि में बतौर उपकुलसचिव अकादमिक ज्वाइन किया था। इस तरह वे विवि के फाउंडर मेंबर्स में से एक हैं। करीब 5 साल जिम्मेदारी निभाने के बाद उन्हें पहले सरगुजा विवि और फिर बाद में रविवि में उपकुलसचिव पद पर नियुक्त किया गया। दुर्ग विवि और उससे संबद्ध कॉलेजों की कार्यप्रणाली को लेकर कुलदीप को लगभग सभी जानकारियां पहले से ही हैं। विवि संचालन के नियम कायदों में महारत रखते हैं। विवि परीक्षा और गोपनीय विभाग की समझ भी विशेषताओं में से एक है।

दुर्ग यूनिवर्सिटी की कुलपति डॉ. अरूणा पल्टा ने कहा, रविवि के उपकुलसचिव भूपेंद्र कुलदीप को हेमचंद यादव विवि में कुलसचिव के पद पर नियुक्त किए जाने की जानकारी मिली है। हालांकि शासन से विवि को अभी नियुक्ती आदेश नहीं मिला है। प्रभारी कुलसचिव डॉ. प्रशांत श्रीवास्तव की प्रतिनियुक्ति संबंधी सूचना शासन को भेज दी गई है।


Related Articles