जग्गी हत्याकांड में बड़ा फैसला: बिलासपुर HC ने खारिज की अपील… याहया ढेबर, शूटर चिमन सिंह समेत 27 दोषियों की उम्रकैद बरकरार… जानिए क्या था था पूरा मामला

रायपुर। छत्तीसगढ़ में एनसीपी नेता रामावतार जग्गी हत्याकांड में हाईकोर्ट से बड़ा फैसला आया है। कोर्ट ने अपील खारिज करते हुए 27 आरोपियों की उम्र कैद की सजा बरकरार रखी है। हाईकोर्ट चीफ जस्टिस रमेश सिन्हा व जस्टिस अरविंद वर्मा की डिवीजन बेंच ने सभी 27 आरोपियों की आजीवन कारावास की सजा को बरकरार रखा है। आजीवन कारावास की सजा पाने वालों में दो तत्कालीन सीएसपी और एक तत्कालीन थाना प्रभारी के अलावा याहया ढेबर और शूटर चिमन सिंह भी शामिल हैं।

आपको बता दे कि 4 जून 2003 को राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के नेता रामावतार जग्गी की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। उस वक्त कांग्रेस से अलग होकर दिग्गज नेता विद्याचरण शुक्ला राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी में चले गए थे। उनके करीबी रामवतार जग्गी की गोली मारकर हत्या हुई थी। जिसमें दो तत्कालीन सीएसपी और एक थाना प्रभारी समेत कुल 31 लोगों को अभियुक्त बनाया था। 31 आरोपियों में बल्टू पाठक और सुरेंद्र सिंह सरकारी गवाह बन गए थे। अमित जोगी को छोड़कर बाकी 28 लोगों को सत्र न्यायालय ने आजीवन कारावास की सजा दी थी। अमित जोगी बरी हो गए थे।

पूरा मामला रायपुर के मौदहापारा थाना इलाके की है। मामले में सरकारी दवाव की बात आने पर मामले को सीबीआई जांच के लिए सौंप दिया गया था। सीबीआई जांच के बाद चालान पर साक्ष्यों के साथ सत्र न्यायालय ने 27 आरोपियों को आजीवन कारावास की सजा दी थी। जिसे आरोपियों ने निरस्त करने के लिए हाईकोर्ट में याचिका दाखिल की थी।

हत्याकांड में पर्याप्त सबूत के बिना सत्र न्यायालय द्वारा सजा देने की बात आरोपियों के वकीलों ने कही। जिसका विरोध करते हुए सीबीआई के वकीलों की ओर से तर्क दिया गया कि हत्या कांड की जांच कर पर्याप्त सबूत के साथ आरोपियों के खिलाफ चार्ज शीट पेश की गई थी। हाईकोर्ट ने सभी पक्षों को सुनने के बाद सभी आरोपियों की अपील खारिज कर दी।

अभय गोयल, याहया ढेबर, वीके पांडे, फिरोज सिद्दीकी, राकेश चंद्र त्रिवेदी, अवनीश सिंह लल्लन, सूर्यकांत तिवारी, अमरीक सिंह गिल, चिमन सिंह, सुनील गुप्ता, राजू भदोरिया, अनिल पचौरी, रविंद्र सिंह, रवि सिंह, लल्ला भदौरिया, धर्मेंद्र, सत्येंद्र सिंह, शिवेंद्र सिंह परिहार, विनोद सिंह राठौर,संजय सिंह कुशवाहा, राकेश कुमार शर्मा ( मृत), विक्रम शर्मा, जबवंत, विश्वनाथ राजभर। इन सभी की अपील राशि का खारिज कर दी गई है और हाईकोर्ट की डिवीजन बेंच ने उनकी आजीवन कारावास की सजा को बरकरार रखा है जबकि अमित जोगी को बरी करने के खिलाफ रामअवतार जग्गी के बेटे सतीश जग्गी की सुप्रीम कोर्ट में अपील के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट से अमित ने स्टे ले रखा है। मामले की सुनवाई के जस्टिस रमेश सिन्हा और जस्टिस अरविंद वर्मा की डिवीजन बेंच में हुई।

खबरें और भी हैं...
संबंधित

पूर्व CM की उपसचिव सौम्या चौरसिया की जमानत याचिका...

डेस्क। छत्तीसगढ़ में कोयला घोटाला का मामला में जेल में बंद सौम्या चौरसिया की मुश्किलें कम होने नाम नहीं ले रही है। सुप्रीम कोर्ट...

CG – महिला से छेड़छाड़ का लगा आरोप… युवक...

महिला से छेड़छाड़ का लगा आरोप क्राइम डेस्क। छत्तीसगढ़ के कबीरधाम जिले में हत्या का मामला सामने आया है। यह मामला जिले के कुकदूर थाना...

छत्तीसगढ़ में 29 नक्सली ढेर: शंकर राव सहित कई...

कांकेर। छत्तीसगढ़ में लोकसभा चुनाव के बीच सुरक्षा बालों और नक्सलियों के बीच बड़ी मुठभेड़ की खबर सामने आ रही है। बताया जा रहा...

डॉक्टर, वकील और टीचर्स की बैठक के बाद MLA...

भिलाई। दुर्ग जिले के वैशाली नगर विधानसभा से भाजपा को एक लाख से अधिक मतों के अंतर से लीड दिलाने विधायक रिकेश सेन और...

ट्रेंडिंग