कुटीर उद्योग लगाने वालों को लोन दे रही केंद्र और राज्य सरकार: 1 से लेकर 50 लाख रुपए तक मिलेगा लोन, 35% तक अनुदान भी…दुर्ग जिले वाले यहां कर सकते हैं आवेदन

भिलाई। छत्तीसगढ़ खादी तथा ग्रामोद्योग द्वारा शहरी व ग्रामीण क्षेत्रों में रोजगार के अवसर श्रृजन कर ग्रामीण अर्थव्यवस्था को सुदृढ़ बनाने एवं स्वरोजगार को बढ़ावा देने की दिशा में प्रधानमंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रम और मुख्यमंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रम का संचालन किया जा रहा है।

खादी तथा ग्रामोद्योग बोर्ड द्वारा ग्रामीण क्षेत्रों में कुटीर उद्योग की स्थापना हेतु बैंको के माध्यम से ऋण उपलब्ध कराया जाएगा, जिसमें शासन द्वारा 35% अनुदान का लाभ दिया जाएगा। वित्तीय वर्ष 2022-23 हेतु छत्तीसगढ़ राज्य के 28 जिलों के माध्यम से आवेदन जमा कर योजना का लाभ लिया जा सकता है।

देखिए कौन-कौन कितना ले सकते हैं लोन
1. प्रधानमंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रम (पीएमईजीपी)
– इनके लिए 20 लाख तक लोन: केन्द्र शासन की इस योजना के तहत शहरी एवं ग्रामीण अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति अन्य पिछड़ा वर्ग, सामान्य वर्ग के लिए सेवा क्षेत्र के लिए (साइकिल रिपेयरिंग, इलेक्ट्रॉनिक/इलेक्ट्रिक रिपेयरिंग, ब्यूटी पार्लर, फोटोकॉपी, वीडियोग्राफी इत्यादि) के लिए लोन मिलेगा। 20 लाख तक का लोन बैंक के माध्यम से दिया जाता है

– इनके लिए 50 लाख तक लोन: विनिर्माण क्षेत्र (दोना पत्तल निर्माण, फेब्रिकेशन, दूध डेयरी प्रोडक्ट, साबुन निर्माण, मसाला निर्माण, दलिया निर्माण, पशु चारा निर्माण, फ्लाई ऐश ब्रिक्स निर्माण, नूडल्स निर्माण इत्यादि) के लिए 50 लाख तक का लोन बैंक के माध्यम से प्रदाय किया जाता है

– अनुदान भी समझ लीजिए: ग्रामीण क्षेत्र के हितग्राही को 35% और शहरी क्षेत्र के हितग्राही को 25% अनुदान का लाभ दिया जाता है। इच्छुक पीएमईजीपी पोर्टल में ऑनलाईन आवेदन कर सकते हैं।

2. मुख्यमंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रम (सीएमईजीपी)
– इनके लिए 1 लाख रुपए तक लोन: राज्य शासन की इस योजना के तहत अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति अन्य पिछड़ा वर्ग, को सेवा क्षेत्र के लिए (साइकिल रिपेयरिंग, मोबाइल रिपेयरिंग, इलेक्ट्रॉनिक/ इलेक्ट्रिक रिपेयरिंग, ब्यूटी पार्लर, फोटोकॉपी, वीडियोग्राफी इत्यादि के लिए 1.00 लाख रुपए तक बैंक द्वारा लोन दिया जाता है

– इनके लिए 3 लाख रुपए तक लोन: इसी प्रकार विनिर्माण क्षेत्र (दोना पत्तल, निर्माण, फेब्रिकेशन, दूध डेयरी प्रोडक्ट, साबुन निर्माण, मसाला निर्माण, दलिया निर्माण, पशु चारा निर्माण, फ्लाई ऐश ब्रिक्स निर्माण, नूडल्स निर्माण इत्यादि) के लिए 3.00 रुपये लाख तक का लोन प्रदाय किया जाता है

– अनुदान भी: 35% अनुदान दिया जाता है। इस योजना में हितग्राही को परियोजना लागत का 5% स्वयं लगाना होता है । विस्तृत जानकारी हेतु खादी ग्रामोद्योग शाखा जिला पंचायत दुर्ग से संपर्क कर सकते हैं।

खबरें और भी हैं...
संबंधित

छत्तीसगढ़ में 15 नक्सलियों की गिरफ्तारी: CM साय ने...

रायपुर। छत्तीसगढ़ के बस्तर संभाग के नक्सल प्रभावित जिले दंतेवाड़ा के गिरसापारा की पहाड़ियों में सुरक्षाबल के जवानों ने पंद्रह नक्सलियों को गिरफ्तार कर...

भिलाई में दहेज प्रताड़ना की वजह से नवविहाहिता ने...

भिलाई। दुर्ग जिले में नवम्बे 2023 को नेवई थाना क्षेत्र में दहेज़ प्रताड़ना का एक मामला सामने आया था, जिसमें पुलिस ने आज मृतिका...

Chhattisgarh में IPS पोस्टिंग: IPS सुनील शर्मा होंगे राज्यपाल...

रायपुर। छत्तीसगढ़ में IPS अधिकारी की पोस्टिंग हुई हैं।छत्तीसगढ़ कैडर के 2017-बैच के IPS अधिकारी आईपीएस सुनील शर्मा को छत्तीसगढ़ के राज्यपाल के एडीसी...

लोकसभा चुनाव मतगणना: देश के विभिन्न क्षेत्रों में छत्तीसगढ़...

रायपुर। छत्तीसगढ़ की मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी रीना बाबासाहेब कंगाले ने रायपुर के नवीन विश्राम गृह में आयोजित मतगणना प्रेक्षकों के प्रशिक्षण कार्यक्रम को संबोधित...

ट्रेंडिंग