अब दुर्ग रेंज में भी तैनात होंगे फिंगर एंड फुट प्रिंट एक्सपर्ट: क्राइम सॉल्व करने में होगी आसानी, वर्कशॉप में 60 से ज्यादा अधिकारीयों-कर्मचारियों ने ली ट्रेनिंग… IG गर्ग ने बांटे सर्टिफिकेट

दुर्ग। दुर्ग पुलिस रेंज में अपराधों को सुलझाने के लिए अब फिंगर प्रिंट एक्सपर्ट तैनात किए जाएंगे। पुलिस महानिरीक्षक दुर्ग रेंज राम गोपाल गर्ग ने शुक्रवार को रेंज के 64 फिंगर प्रिंट एक्सपर्ट को सर्टिफिकेट सौंपा है। फॉरेंसिक साइंस के जरिए क्राइम सुलझाने में और क्राइम सीन पर वेरिफिकेशन में इससे आसानी होगी। पुलिस लाइन दुर्ग में आयोजित 5 दिवसीय फिंगर और फुट प्रिंट नफीस ट्रेनिंग का आज समापन हुआ। पुलिस मुख्यालय नवा रायपुर एवं पुलिस महानिरीक्षक दुर्ग रेंज राम गोपाल गर्ग के आदेशानुसार, पुलिस अधीक्षक दुर्ग जितेन्द्र शुक्ला के निर्देशन व अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक अभिषेक झा के मार्गदर्शन में पुलिस लाइन के सभागार में 5 दिवसीय कार्यशाला का आयोजन किया गया।

कार्यशाला में रेंज के जिले बालोद एवं दुर्ग के 64 अधिकारी/कर्मचारी शामिल हुए। कार्यशाला दिनांक 27.05.2024 से शुरू की गए थी, कार्यशाला के प्रशिक्षक फिंगर प्रिंट एक्सपर्ट कमलेश्वर सिंह, धर्मेंद्र कुमार भारती रहे, जिनके द्वारा गिरफ्तार व्यक्तियों, संदेहियों एवं निगरानी बदमाशों के फिंगर प्रिंट तैयार करने के संबंध में एवं घटना स्थल में फिंगर प्रिंटों को सुरक्षित करने के तरीके, अज्ञात मृतक के टेन प्रिंट स्लिप का वेरिफिकेशन, नेफ़िस अपलोडिंग, फूट प्रिंट एवं नवीन तकनीक के संबंध में प्रशिक्षण दिया गया।

पुलिस महानिरीक्षक दुर्ग रेंज रामगोपाल गर्ग के द्वारा कार्यशाला के समापन दिवस पर अपने संबोधन पर कहा कि इस कार्यशाला के आयोजन बाद आप सभी फिंगर प्रिंट एक्सपर्ट बन गए है जो कि अब क्राइम सीन वेरिफिकेशन में अपराधी को साइंटिफिक तरीके से साक्ष्य एकत्र कर सजा दिलाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएंगे। फिंगर प्रिंट एनालिसिस (विश्लेषण) करने में मदद मिलेगी, साथ ही क्राइम सीन पर प्रिंट के संग्रह और उसके वेरिफिकेशन में काफी आसानी होगी। इस पहल से मामलों को सुलझाने में भी पुलिस को काफी मदद मिलेगी। तत्पश्चात उनके द्वारा उपस्थित सभी फिंगरप्रिंट एक्सपर्ट को सर्टिफिकेट प्रदान किया गया।

इस कार्यशाला के माध्यम से फिंगर प्रिंट सुरक्षित रखने से आरोपी के बारे में त्वरित जानकारी मिल सकेगी। पहले आरोपी का फिंगर प्रिंट मेनुअल लिया जाता था एवं मिलान भी मेनुअल किया जाता था। अब आनलाईन फिंगर प्रिंट लिया जाकर उसकी मैचिंग भी आनलाईन किया जाएगा। फिंगर प्रिंट एक्सपर्ट द्वारा उपस्थित सभी अधिकारी, कर्मचारियों को साइंटिफिक विवेचना हेतु फिंगर प्रिंट के संबंध में विस्तृत चर्चा हुई।

उपरोक्त कार्यशाला में संचालक फिंगर प्रिंट ब्यूरो पुलिस मुख्यालय रायपुर, लिनुस किस्पोट्टा, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक अभिषेक झा, नगर पुलिस अधीक्षक दुर्ग प्रशिक्षु (आईपीएस) चिराग जैन, प्रशिक्षु (आईपीएस) अक्षय प्रमोद सावद्रा, उप पुलिस अधीक्षक अलेक्जेंडर किरो, रक्षित निरीक्षक दुर्ग नीलकंठ वर्मा सहित दुर्ग रेंज के अधिकारी कर्मचारी उपस्थित रहे।

खबरें और भी हैं...
संबंधित

दुर्ग में खौफनाक वारदात: पहले पत्नी ने अपनी पत्नी...

दुर्ग। दुर्ग जिले के उतई के पास खोपली गांव में शुक्रवार रात बड़ा कांड हो गया है। खोपली गांव के रहने वाले हेंगल बंजारे...

वर्ल्ड ब्लड डोनर डे पर सन्ना ब्लड सेंटर ने...

भिलाई। वर्ल्ड ब्लड डोनर डे 14, जून के उपलक्ष्य में सन्ना ब्लड बैंक के द्वारा मेगा ब्लड डोनेशन कैंप का आयोजन 14 जून दिन...

छत्तीसगढ़ में पुलिस और नक्सलियों के बीच एनकाउंटर: 8...

File Photo नारायणपुर। छत्तीसगढ़ में सुरक्षाबलों और नक्सलियों के बीच मुठभेड़ की खबर सामने आ रही है। मिली जानकारी के अनुसार, छत्तीसगढ़-महाराष्ट्र राज्य की सीमा...

नेशनल आर्म रेसलिंग में छत्तीसगढ़ के खिलाडियों का दबदबा:...

भिलाई। नेशनल आर्म रेसलिंग में छत्तीसगढ़ के खिलाडियों ने कमाल प्रदर्शन किया है। 21 पदक जीतने वाले खिलाड़ियों को वैशाली नगर विधायक रिकेश सेन...

ट्रेंडिंग