हैकाथॉन में रूंगटा R-1 के छात्रों को प्रथम पुरस्कार, भिलाई शहर को फिर मिली उपलब्धि: भिलाई के टेक्नोक्रेट्स ने बनाया EPFO विभाग के लिए नया ऐप… कारगार साबित होगी ऐप… जानिए कैसे करेगा मदद

भिलाई। कर्मचारी भविष्य निधि (ईपीएफ) की वेबसाइट पर जाकर जमा हो रही राशि देखना फिलहाल किसी चुनौति से कम नहीं है। कभी वेबसाइट स्लो तो कभी बहुत रश होने से सामान्य व्यक्ति खुद को बेहद परेशान महसूस करता है। इस दिक्कत को दूर करने रूंगटा इंजीनियरिंग कॉलेज आर-1 के टेक्नोक्रेट्स ने ईपीएफ विभाग के लिए एक ऐसा ऐप तैयार किया है, जिसमें सिर्फ साइन-इन करने की जरूरत होगी, यह ऐप एक क्लिक में इम्पलॉई और इम्पलॉयर दोनों के माध्यम से जमा हो रही राशि चंद सेकंड में सामने रख देगा।

यही नहीं ऐप की मदद से ही ईपीएफ की राशि विड्राल कर सकेंगे। इस ऐप को स्टूडेंट्स ने आईआईटी धनबाद में हुई स्मार्ट इंडिया हैकाथॉन के मंच पर पेश किया जिसे परखने के बाद पीएफ ने इसे सटीक पाया। रूंगटा आर-1 की टीम को हैकॉथान में आई 23 टीमों क बीच एक लाख रुपए प्रथम पुरस्कार दिया गया। अब यह ऐप आगे विभागीय टेस्टिंग के लिए जाएगा। स्टूडेंट्स ने बताया कि मोबाइल में ऐप रहने पर जब संस्थान अपना कॉन्ट्रीब्यूशन पीएफ खाते में जमा करेगी, इस बारे में ऐप का पॉपअप फीचर कर्मचारी को जानकारी देता रहेगा।

इनको होगा फायदा
स्टूडेंट्स ने बताया कि हैकाथॉन में उन्हें कहा कि ईपीएफ के लिए ऐसा ऐप तैयार करना है, जिसे कम पढ़ा-लिखा कर्मी भी आसानी से चला सके। इस प्रॉब्लम स्टेटमेंट को रूंगटा ग्रुप के स्टूडेंट्स तीन दिनों की लगातार सॉफ्टवेयर कोडिंग करने के बाद तैयार कर दिया। इस वक्त ईपीएफ विभाग के आला अधिकारी भी शामिल रहे, जिन्होंने डाटा फीड करके इसका परीक्षण भी किया।

स्टूडेंट्स की हुई सराहना
दोनों प्रोजेक्ट के ऐप डिज़ाइन में हर्ष वर्धन, अदिति शर्मा,साक्षी,अमन कुमार, सुदर्शन, विशेष आनंद, आदित्य रुंगटा, शुभम सागर, आदर्श रघुवंशी, आंचल त्रिपाठी, कुमार आदित्य और सागर की सराहना की गई।

ऐप से रेगुलेट होगा हेल्थ सिस्टम
स्मार्ट इंडिया हैकाथॉन में 5 आइडिया सलेक्ट हुए। इसमें से एक सॉल्युशन रूंगटा आर-1 की टीम को दिया गया। इस टीम ने प्राइवेट हेल्थ सेक्टर को रेगुलेट करने ऐप बनाया जिसकी मदद से इमरजेंसी के दौरान अस्पतालों की सभी जानकारी बेड, डॉक्टर की मौजूदगी, वेंटीलेटर जैसा सबकुछ जानकारियां मिल जाएंगी। रूंगटा टेक्नोक्रेट्स टीम ने यहां भी कोडिंग में महारत दिखाई और प्रथम पुरस्कार के साथ शील्ड और एक लाख रुपए का ईनाम अपने नाम कर लिया। इनको कंप्यूटर साइंस विभाग की फैकल्टी डॉ. अजय कुशवाहा, डॉ. हुमा खान ने मार्गदर्शन दिया। स्टूडेंंट्स की इस कामयाबी पर संस्थान के चेयरमैन संतोष रूंगटा ने हर्ष व्यक्त किया।

खबरें और भी हैं...
संबंधित

भिलाई में मॉल के सामने सड़क पर अवैध कब्जाधारियों...

भिलाई। भिलाई के जुनवानी स्थित सूर्या मॉल के सामने अवैध कब्जाधारियों के ऊपर नगर निगम ने आज कार्रवाई की है। निगम को लगातार शिकायत...

शहर में ट्रैफिक नियम तोड़ने वाले ऑटो चालकों के...

रायपुर। छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में SSP संतोष सिंह के निर्देश पर ट्रैफिक पुलिस ने नो पार्किंग में खड़ी 248 ऑटो के चालकों पर...

बस्तर के इस जिले में 33 नक्सलियों ने किया...

रायपुर। छत्तीसगढ़ के बस्तर संभाग के बीजापुर जिले में 33 नक्सलियों ने हथियार छोड़ सरेंडर किया हैं। बीजापुर जिले में 33 नक्सलियों द्वारा आत्मसमर्पण...

बिलासपुर से जगदलपुर के लिए 1 से शुरू होगी...

रायपुर। छत्तीसगढ़ में फ्लाइट कनेक्टिविटी में विस्तार होने जा रहा है। बिलासपुर से बस्तर के जगदलपुर एयरपोर्ट तक डायरेक्ट फ्लाइट सेवा 1 जून से...

ट्रेंडिंग