Bhilai Times

भिलाई में समर कैंप खेल का हुआ भव्य समापन: मेयर नीरज पाल की पहल पर हुआ कैंप का आयोजन… खिलाड़ियों को क्रिकेट, फुटबॉल सहित इन खेलों को सिखने का मिला मौका… कोच को किया गया सम्मानित

भिलाई में समर कैंप खेल का हुआ भव्य समापन: मेयर नीरज पाल की पहल पर हुआ कैंप का आयोजन… खिलाड़ियों को क्रिकेट, फुटबॉल सहित इन खेलों को सिखने का मिला मौका… कोच को किया गया सम्मानित

भिलाई नगर। नगर पालिक निगम भिलाई क्षेत्र अंतर्गत समर कैंप का आयोजन महापौर नीरज पाल की पहल से इस वर्ष भी किया गया था। जिसमे अनुभवी कोच के माध्यम से बच्चों को नि:शुल्क खेल प्रशिक्षण की सुविधा मुहैया कराया गया। 10 मई से पंजीयन प्रारंभ किया गया था तथा 15 मई से प्रशिक्षण का आयोजन किया गया।

बच्चों ने अलग-अलग खेल के मुताबिक विभिन्न खेल प्रांगण में अपना पंजीयन कराकर खेल सीखने के लिए भाग लिए थे। खेल के अलग-अलग विधाओं में खिलाड़ियों ने खेल की बारीकियों को अनुभवी एवं प्रशिक्षित कोच के माध्यम से सीखा। क्रिकेट, फुटबॉल, बैडमिंटन, टेनिस, खो-खो, टेबल टेनिस, बॉक्सिंग, एथलेटिक्स, कबड्डी, शतरंज, वॉलीबॉल, हैंडबॉल, बास्केटबॉल, जूडो, कराटे, किक, बॉक्सिंग, रेसलिंग, बॉडीबिल्डिंग, पावरलिफ्टिंग, आर्म रेसलिंग, रस्साकशी, शूटिंग, मिक्स मार्शल आर्ट, शतरंज जैसे खेल को सीखने का अच्छा अवसर समर कैंप के माध्यम से खिलाड़ियों को मिला। अब समर कैंप का समापन हो गया है।

खेल एवं युवा कल्याण के प्रभारी सदस्य आदित्य सिंह ने खेल के समापन अवसर पर कोच को सम्मानित करते हुए प्रशस्ति पत्र प्रदान किया और खिलाड़ियों के उज्जवल भविष्य की कामना की। समर कैंप के समापन के अवसर पर कराटे के खिलाड़ियों ने अपना शानदार प्रदर्शन करते हुए मैदान पर अपना दमखम साबित किया। इस दौरान उनके पालक एवं अभिभावक भी मौके पर मौजूद रहे।

महापौर परिषद के सदस्य एवं खेल विभाग के प्रभारी सदस्य आदित्य सिंह ने इस दौरान कहा कि समर कैंप के माध्यम से खिलाड़ियों को एक नया अनुभव तथा खेल के छोटे-छोटे पहलुओं को समझने का अवसर मिलता है। अनुभवी कोचिंग के माध्यम से खेल अभ्यास सीखने पर किसी भी प्रकार की गलती होने से उसे तत्काल सुधारने का मौका भी मिलता है। समर कैंप का उद्देश्य खिलाड़ियों को एक अच्छा अवसर देते हुए उन्हें प्रशिक्षित करना है, ताकि शहर के बच्चे राज्य, देश और विदेश में भिलाई का नाम रोशन कर सकें। समर कैंप के समापन अवसर पर जनसंपर्क अधिकारी पी.सी. सार्वा, सहायक अभियंता आर. एस. राजपूत व शरद दुबे आदि मौजूद रहे।


Related Articles