Bhilai Times

IAS-IPS सस्पेंड: देर रात शराब के नशे में होटल स्टाफ को पीटा था, आईएएस-आईपीएस समेत 8 सस्पेंड, CCTV में कैद हुई थी घटना

IAS-IPS सस्पेंड: देर रात शराब के नशे में होटल स्टाफ को पीटा था, आईएएस-आईपीएस समेत 8 सस्पेंड, CCTV में कैद हुई थी घटना

देर रात शराब के नशे में होटल स्टाफ को पीटा था, आईएएस-आईपीएस समेत 8 सस्पेंड

डेस्क। अजमेर में होटल कर्मचारियों से मारपीट के मामले में सरकार ने एक आईएएस गिरधर और आईपीएस सुशील कुमार बिश्नोई समेत 8 को निलंबित कर दिया। घटना हाईवे पर स्थित होटल मकराना राज की है। मामले में होटल मालिक की ओर से IPS अफसर और उनके दोस्तों सहित कुछ पुलिसकर्मियों पर डंडों से पीटने का आरोप लगाया था। मारपीट के दौरान दोनों अफसर नशे में थे।

मामला 11 जून की रात 2 बजे का था। इसका VIDEO मंगलवार को सामने आया है। वीडियो सामने आने के बाद सरकार ने दोनों अफसरों को सस्पेंड किया। आईएएस गिरधर अजमेर डेवलपमेंट अथॉरिटी के आयुक्त थे। उनके भी इस मामले में शामिल होने की चर्चा थी।

आईएएस और आईपीएस के साथ गेगल थाने के ASI रुपाराम, कॉन्स्टेबल गौतम, मुकेश यादव, टोंक के कॉन्स्टेबल मुकेश जाट और टोंक जिले में तहसील के कनिष्ठ सहायक हनुमान प्रसाद, टोंक पटवारी नरेंद्र सिंह दहिया को भी सस्पेंड किया है।

बताया जा रहा है कि टोंक निवासी कॉन्स्टेबल मुकेश कुमार, कनिष्ठ सहायक, नागौर निवासी सुरेंद्र जाट, सीकर निवासी मुकेश जाटऔर टोंक पटवारी को पुलिस ने शांतिभंग में गिरफ्तार कर लिया था। इनको एसडीएम कोर्ट में पेश किया और जमानत भी मिल गई। हालांकि पुलिस इसकी पुष्टि नहीं कर रही है।

आईपीएस अफसर सुशील बिश्नोई काे राज्य सरकार ने गत दिनों प्रदेश में नवगठित गंगापुर जिले का ओएसडी लगाया है। इससे पहले वे एडिशनल एसपी सिटी अजमेर के पद पर तैनात थे। रविवार को शहर के एक रेस्टोरेंट में उन्हें विदाई पार्टी दी गई। पार्टी खत्म होने के बाद 11 जून को रात 2 बजे कुछ दोस्तों के साथ वह होटल में खाना खाने पहुंचे थे।

होटल मालिक महेंद्र सिंह ने आरोप लगाया है कि सुशील बिश्नोई अपने 4-5 साथियों के साथ प्राइवेट गाड़ी में होटल आए थे। होटल के बाहर बनियान में बैठे एक कर्मचारी से पूछा यहां कैसे बैठे हो। उसने कहा- होटल का स्टाफ हूं, सोने जा रहा हूं। इसके बाद आईपीएस ने थप्पड़ मार दिया।

होटल के स्टाफ उमेश कुमार, महेंद्र गुर्जर और अन्य स्टाफ के साथ मारपीट, गाली गलौज करने लग गए। फिर वापस चले गए। घटना की सूचना स्टाफ के द्वारा मुझे दी गई। इसके बाद गेगल थाने को सूचना दी।

रात 2.30 बजे आईपीएस सुशील कुमार, ASI रुपाराम पुलिसकर्मियों के साथ होटल पर आए। उन्होंने रेस्ट रूम में जाकर स्टाफ के साथ लाठी, हॉकी, डंडों से मारपीट शुरू कर दी।

रात 2.45 बजे आईपीएस उनके दोस्तों के साथ पुलिस जीप में रवाना हुए। इसकी शिकायत रात 3 बजे फिर गेगल पुलिस को दी गई। पुलिस के द्वारा मामले में अज्ञात लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है।

होटल कर्मचारियों के साथ मारपीट की घटना सीसीटीवी में कैद हो गई थी। होटल मालिक महेंद्र सिंह के द्वारा सीसीटीवी फुटेज भी उपलब्ध करवाए गए थे। सीसीटीवी में आईपीएस सुशील बिश्नोई दोस्त के साथ ही वर्दी में मौजूद पुलिसकर्मी मारपीट करते दिखाई दे रहे थे।

होटल कर्मचारियों से हुई मारपीट के बाद राजपूत समाज में आक्रोश है। समाज के द्वारा मंगलवार को आरटीडीसी चेयरमैन धर्मेंद्र राठौड़ को ज्ञापन दिया गया। समाज के लोगों ने मामले में आईपीएस सुशील बिश्नोई और अन्य पुलिसकर्मियों पर कार्रवाई की मांग की थी।

आरटीडीसी चेयरमैन धर्मेंद्र राठौड़ ने कहा कि राजपूत समाज के द्वारा शिकायत दी गई है। गेगल थाने के पुलिसकर्मियों और आईपीएस अधिकारी पर मारपीट का आरोप लगाया है। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और रेंज आईजी को जानकारी दी है। जांच में जो भी दोषी पाया जाएगा, उसके खिलाफ कार्रवाई होगी। इसके बाद यह कार्रवाई हुई।

जब मारपीट के मामले में एसपी अजमेर एसपी चूनाराम जाट से बात की तो उन्होंने कॉल रिसीव नहीं किया। इधर, डीजीपी उमेश मिश्रा के निर्देश पर एडीजी विजिलेंस बीजू जॉर्ज जोसफ को मामले की जांच दी गई है।


Related Articles