Bhilai Times

भिलाई के बाद महादेव Book के गुर्गें यहां भी पकड़े गए: 200 VIP नंबर समेत कई मोबाइल और लैपटॉप बरामद… मौके से भारी मात्रा में कैश भी मिले… सट्टा खेलने वाले 20 हजार से जयादा लोगों की निकाली गई जानकारी

भिलाई के बाद महादेव Book के गुर्गें यहां भी पकड़े गए: 200 VIP नंबर समेत कई मोबाइल और लैपटॉप बरामद… मौके से भारी मात्रा में कैश भी मिले… सट्टा खेलने वाले 20 हजार से जयादा लोगों की निकाली गई जानकारी

भिलाई। ऑनलाइन सट्‌टा एप महादेव बुक की उलटी गिनती शुरू हो गई है। दुर्ग पुलिस ने इससे जुड़े 6 और गुर्गों को पकड़ा है। महादेव बुक के खिलाफ लगातार यह कार्रवाई जारी है।

दुर्ग एसपी डॉ. अभिषेक पल्लव ने खुलासा करते हुए बताया कि, दुर्ग पुलिस की तत्परता से सुपेला थाना क्षेत्र से ऑन लाईन सट्टा महादेव एप्प के 06 गुर्गे पकड़े गए हैं। पिछले दिनों हुई कार्यवाही से प्राप्त डाटा एवं सूचना के विश्लेषण के आधार पर यह सफलता मिली है। करोड़ों रुपए के ऑन-लाईन सट्टे के पैसे के लेन-देन का खुलासा हुआ है।

भिलाई- दुर्ग के बाद अब बिलासपुर में भी पुलिस ने ऑनलाइन बैटिंग “सट्टा” के प्लेटफार्म ’महादेव और रेडीअन्ना’ से जुड़े 4 आरोपियों को गिरफ्तार कर मौके से 4 लाख रूपये कैश के साथ ही करीब 200 वीआईपी नंबर बरामद कर जब्त किये हैं। पुलिस की इस कार्रवाई के बाद सटोरियों के बीच हड़कंप मचा हुआ हैं।

गौरतलब हैं कि पिछले दिनों सूबे के मुखिया भूपेश बघेल ने पुलिस विभाग को जुआ सट्टा के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने की बात कही थी। मुख्यमंत्री के इस निर्देश के बाद छत्तीसगढ़ के सभी जिलों के एसपी को जुआ-सट्टा के खिलाफ अभियान चलाकर सख्ती से कार्रवाई का निर्देश दिया गया था। बताया जा रहा है कि बिलासपुर पुलिस को जिले में ऑनलाइन बैटिंग “सट्टा” के प्लेटफार्म ’महादेव और रेडीअन्ना’ के लोगों के सक्रिय होने की जानकारी मिली थी। पुख्ता जानकारी के बाद एस.पी.पारूल माथुर के दिशा निर्देश पर ऑन लाइन सट्टा खिलाने वाले गिरोह की पातासाजी की जा रही थी।

थाना चकरभाठा क्षेत्र में आनलाइन बेटिंग प्लेटफार्म की जानकारी मिलने के बाद एसपी पारूल के विशेष निर्देशन में ACCU और थाना चकरभाठा की अलग अलग टीम बनाकर रेड कार्यवाही किया गया। रेड कार्यवाही में ऑनलाइन बेटिंग प्लेटफार्म ’महादेव और रेड्डीअन्ना’ का मैनेजर, अकाउंटेंट सहित बैंक खाता अरेंज करने वाले कुल 4 आरोपियों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। पुलिस के हत्थे चढ़े आरोपियों में पेंड्रा निवासी शैलष जायसवाल, कोरबा निवासी विकास कर्ष, अकलतरा निवासी राहुल ढिरही, पोड़ी सिरगिट्टी निवासी सोनाकुमार मरावी शामिल है।

मौके से पुलिस टीम ने 4 लाख रूपये कैश के साथ ही 2 लैपटॉप,16 मोबाइल, 9 एटीएम, 3 पैनकार्ड, 6 आईकार्ड, 6 चेक बुक, 4 पास बुक, 2 बुक आहरण और जमा पर्ची जप्त हुई है। इनके ठिकाने में लैपटॉप कंप्यूटर, स्मार्टफोन के साथ अलग-अलग कार्य करने वाले व्यक्ति होने की जानकारी मिली है। पुलिस अधिकारियों ने बताया हैं कि पूरे भारत में महादेव और रेडीअन्ना आनलाइन बैटिंग के एक से अधिक ब्रांच होने की जानकारी मिली है। जिनमें कोलकाता, दिल्ली, पंजाब, उत्तर प्रदेश, उड़ीसा, राजस्थान, हरियाणा, महाराष्ट्र और गोवा से भी संचालित होने की पुख्ता जानकारी मिली है।

बताया जा रहा है। कि एक सामान्य ऑफिस की तरह ही इनके ठिकानों में स्टाफ के द्वारा कार्य का वितरण होता है। दूसरों का बैंक खाता प्राप्त करना, एप्लीकेशन का प्रमोशन करना, सट्टा खेलने वालों को खाता नंबर व व्हाट्सएप नंबर बदल कर प्रोवाइड करना, स्पोर्ट्स नंबरों आदि माध्यम से दांव लगवाना, सट्टा खेलने के लिए रकम जमा और वितरण करने का हिसाब किताब रखना का काम करने वाले व्यक्ति होना पाया गया है। महादेव और रेडीअन्ना ऑनलाइन बैटिंग व्हाट्सएप, टेलीग्राम एप्लीकेशन और वेबसाइट के माध्यम से इंटरनेट प्लेटफार्म पर उपलब्ध है।

पुलिस की इस कार्रवाई में अलग.अलग व्हाट्सएप नंबर से कुल 270 अलग अलग बैंक अकाउंट छत्तीसगढ़ के अलावा अन्य राज्यों के भी मिले हैं। 200 से अधिक वीआईपी मोबाइल नंबर जिनमे व्हाट्सएप एक्टिव है। 10 से अधिक वेबसाइट की जानकारी मिली है। इस खुलासे के बाद अब पुलिस उपरोक्त बैटिंग साइट्स और मोबाइल नंबर को इंटरनेट व टेलीकॉम सर्विस प्रोवाइडर के माध्यम से रिमूव व ब्लॉक कराने का कार्य किया जा रहा है। एथिकल हैकिंग के माध्यम से उपरोक्त बैटिंग साइड में सट्टा खेलने वाले लगभग 22,000 व्यक्तियों की जानकारी निकाली गई है जिनमे आगे कार्यवाही की जायेगी।


Related Articles