नारायणपुर में कांग्रेस नेता की मर्डर मिस्ट्री पुलिस ने सुलझायी: भिलाई में रची हत्या की साजिश… बिहार से मंगवाई पिस्टल… फिर ट्रांसपोर्टर के इशारे पर हो गया मर्डर, पढ़िए इस हत्याकांड की पूरी कहानी

डेस्क। छत्तीसगढ़ के नारायणपुर जिले में कांग्रेस नेता की हत्या कर दी गई थी। सोमवार की देर रात कांग्रेस नेता विक्रम बैस को अज्ञात हमलावरों ने गोली मार दी, जिससे मौके पर ही उनकी मौत हो गई थी। इस घटना के बाद इलाके में सनसनी फैल गई। वहीं कांग्रेस नेता विक्रम बैस के अंधे कत्ल की गुत्थी पुलिस ने सुलझा ली गयी है। पुलिस ने दुर्ग,रायपुर और बिलासपुर जिला में छापेमार कार्रवाई कर इस हत्याकांड में शामिल 6 आरोपियों को गिरफ्तार कर वारदात में प्रयुक्त हथियार जब्त किया है। वहीं इस मर्डर का मास्टर माइंड मनीष राठौर बताया जा रहा है। आरोपियों ने बिहार के सिवान से कट्टा मंगवाया था और संजू यादव व विश्वजीत नाग ने मिलकर कांग्रेस नेता विक्रम बैस की गोली मारकर हत्या कर दी थी। पुलिस के खुलासे में ये बात सामने आई है कि मनीष राठौर ने व्यापारिक बरचस्व के चलते विक्रम बैस की हत्या करवाई थी।

मनीष राठौर ट्रांसपोर्टर के साथ साथ नाराणपुर में पहले जुआ-सट्टेबाजी का काम भी देखता था। इस मामले में पुलिस ने पहले भी मनीष के खिलाफ कार्रवाई की थी। वहीं, मृतक कांग्रेस नेता विक्रम बैस भी ट्रांसपोर्टर था और दोनों के बीच व्यावसायिक प्रतिस्पर्धा भी चल रही थी। जानकारी मिली है कि विक्रम बैस परिवहन संघ में पदधिकारी भी थे। मनीष का विक्रम बैस के साथ विवाद भी चल रहा था। फिलहाल इस मामले में छह आरोपियों को पकड़ा गया है। साथ ही मुख्य आरोपी मनीष फरार है जिसकी तलाश की जा रही है।

ये था पूरा मामला –

13 मई की रात विक्रम बैस निवासी बखरूपारा नारायणपुर की धारदार हथियार व गोलीमार कर हत्या कर दी गई थी। इसकी शिकायत थाना नारायणपुर में दर्ज कराई गई थी। आचार सहिंता के दौरान कांग्रेस नेता की हत्या को नारायणपुर पुलिस ने गंभीरता से लिया और एसपी प्रभात कुमार के निर्देश पर ASP रोबिनसन गुड़िया के ऑब्जरवेशन में विशेष टीम का गठन किया गया।

मामले में बारीकी से पूछताछ, सीसीटीवी फुटेज व सायबर एनालिसिस के आधार पर जांच शुरू की गई। इसी बीच पुलिस को मनीष राठौर निवासी नारायणपुर के बारे में जानकारी मिली। पुलिस को पता चला कि व्यापारिक प्रतिस्पर्धा के चलते मनीष राठौर कांग्रेस नेता विक्रम बैस से दुश्मनी रखता था। साथ ही पुलिस को ये भी जानकारी मिली कि मनीष राठौर, जसप्रीत सिंह सिद्द्धू, विश्वजीत नाग, विप्लव एवं विवेक अधिकारी के द्वारा लगभग डेढ़ महीने पहले हत्या की साजिश रची गई थी। और भिलाई के इंडियन काॅफी हाॅउस मनीष राठौर, विश्वजीत नाग, राजीव रंजन यति उर्फ राजू उर्फ बिहारी, संदीप यादव उर्फ संजू और सैमुआल उर्फ रायनुन्तलम के साथ मीटिंग की गई थी। मनीष जब एक मामले में नारायणपुर जिला जेल में बंद था उसी दौरान उसकी मुलाकात विश्वजीत नाग से हुई थी। जेल में मिलकर मनीष ने हत्या की प्लानिंग तैयार की थी।

नारायणपुर पुलिस को जांच के दौरान पता चला कि हत्याकांड में शामिल आरोपी दुर्ग और बिलासपुर में छिपे हुए है और भागने की फिराक में है। इस सूचना के बाद पुलिस की टीम ने दुर्ग और बिलासपुर में 15 मई को छापा मारकर आरोपियों को पकड़ा गया।

पूछताछ में आरोपियों ने बताया कि हत्या में उपयोग हुआ पिस्टल सिवान बिहार से लाये थे। घटना को अंजाम देने के पहले दो दिनों तक आरोपियों के द्वारा मृतक की रेकी की गई थी। घटना के दिन मृतक विक्रम बैस को अकेला पाकर आरोपी संजू यादव और विश्वजीत नाग ने मिलकर गंडासा से वार कर और पिस्टल से गोली मारकर उसकी हत्या कर दी। घटना में प्रयुक्त पिस्टल को मनीष राठौर के गोदाम में छुपा दिया था।

थाना नारायणपुर में अपराध क्रमांक 54/2024 धारा 302, 34 भादवि का अपराघ दर्ज किया गया। प्रकरण में दुर्ग,रायपुर एवं बिलासपुर की एसीसीयू टीम तथा सायबर टीम की सहायता से आरोपियों के संबंध में जानकारी ली गई। इसी आधार पर अंधे कत्ल की गुत्थी को सुलझा कर आरोपियों को गिरफ्तार कर रिमाण्ड पर भेजा गया।

पूछताछ के दौरान नारायणपुर पुलिस को पता चला कि कुछ समय नारायणपुर के पत्रकारों को धमकी भरा पत्र भेजा गया था। इसे मनीष राठौर द्वारा लिखा गया था और विश्वजीत नाग द्वारा इसे पोस्ट किया गया था। वहीँ, जिले के किशोर आर्या परिवहन संघ अध्यक्ष को धमकी भरा पत्र व नक्सलियों के नाम पर धमकी भरे बैनर व पत्र भेजकर लोगों को आतंकित करने का काम भी इसी ने किया था।

मामले में अंधे कत्ल की गुत्थी सुलझाने में प्रमुख रूप से जिला दुर्ग,रायपुर एवं बिलासपुर एसीसीयू टीम तथा जिला नारायणपुर से निरीक्षक-थाना प्रभारी श्री दिनेश चन्द्रा, उप निरीक्षक धीरेन्द्र तिवारी, सउनि रूमन्त देवांगन प्रभारी सायबर सेल एवं साइबर सेल नारायणपुर के महत्वपूर्ण योगदान रहा।

गिरफ्तार आरोपी –

1- विश्वजीत नाग पिता हाराधन नाग जाति कायस्थ (बंगाली) उम्र 48 वर्ष साकिन 66 नं. बेलघड़िया थाना बेलघड़िया जिला कलकत्ता (पं.ब.) हाल मुकाम बंगलापारा, मनीष राठौर का गोदाम, नारायणपुर

2- संदीप यादव उर्फ संजू पिता अरूण यादव उम्र 24 वर्ष साकिन सुभाष चैक देहान (गौठान के पास) बोरसी थाना पद्मनाभपुर जिला दुर्ग (छ.ग.),

3- राजीव रंजन यति उर्फ राजू उर्फ बिहारी पिता हीरा लाल यति जाति गोसाई (ब्राम्हण) उम्र 41 वर्ष सा. पिपरा थाना मीरगंज जिला गोपालगंज (बिहार) हाल मुकाम- रूट नं. 11 ब्लाॅक नं. 09 रूम नं. 11, सेक्टर 09 हाॅस्पिटल सेक्टर, थाना कोतवाली, सेक्टर – 06 जिला दुर्ग (छ.ग.)

4- आर. सैमुआल उर्फ रायनुन्तलम पिता स्व. आर. सी. रत्नम जाति इसाई (तेलगु) उम्र 39 वर्ष साकिन सड़क नं. 09 ब्लाॅक नं. 01 रूम नं. 06 हास्पिटल सेक्टर 09 थाना कोतवाली सेक्टर 06 जिला दुर्ग (छ.ग.)

5- जसप्रीत सिंह उर्फ पोतू पिता स्व. सरदारा सिंह जाति सिक्ख उम्र 20 वर्ष साकिन खालसा बिला, बंगलापारा नारायणपुर थाना व जिला नारायणपुर

6- विवेक अधिकारी उर्फ सिदाम पिता हरविलास उम्र 28 वर्ष जाति नमोशूद्र साकिन बखरूपारा नारायणपुर।

खबरें और भी हैं...
संबंधित

भिलाई में मॉल के सामने सड़क पर अवैध कब्जाधारियों...

भिलाई। भिलाई के जुनवानी स्थित सूर्या मॉल के सामने अवैध कब्जाधारियों के ऊपर नगर निगम ने आज कार्रवाई की है। निगम को लगातार शिकायत...

शहर में ट्रैफिक नियम तोड़ने वाले ऑटो चालकों के...

रायपुर। छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में SSP संतोष सिंह के निर्देश पर ट्रैफिक पुलिस ने नो पार्किंग में खड़ी 248 ऑटो के चालकों पर...

बस्तर के इस जिले में 33 नक्सलियों ने किया...

रायपुर। छत्तीसगढ़ के बस्तर संभाग के बीजापुर जिले में 33 नक्सलियों ने हथियार छोड़ सरेंडर किया हैं। बीजापुर जिले में 33 नक्सलियों द्वारा आत्मसमर्पण...

बिलासपुर से जगदलपुर के लिए 1 से शुरू होगी...

रायपुर। छत्तीसगढ़ में फ्लाइट कनेक्टिविटी में विस्तार होने जा रहा है। बिलासपुर से बस्तर के जगदलपुर एयरपोर्ट तक डायरेक्ट फ्लाइट सेवा 1 जून से...

ट्रेंडिंग