Bhilai Times

स्वामी रामभद्राचार्य आ रहे है भिलाई: श्री राम की कथा और 1008 कुंडीय श्री हनुमत यज्ञ का होगा आयोजन… सांसद विजय बघेल ने संभाली बागडोर

स्वामी रामभद्राचार्य आ रहे है भिलाई: श्री राम की कथा और 1008 कुंडीय श्री हनुमत यज्ञ का होगा आयोजन… सांसद विजय बघेल ने संभाली बागडोर

भिलाई। भिलाई में पिछले वर्ष दुर्ग सांसद विजय बघेल के मार्गदर्शन में 21000 भक्तों द्वारा सामूहिक सुंदर कांड पाठ का विशाल, भव्य एवं सफल आयोजन जयंती स्टेडियम मे संपन्न हुआ था। जिसे लिम्का बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड मे दर्ज किया गया। उक्त सफल आयोजन इस बार प्रभु श्री राम की कथा एवं 1008 कुंडीय श्री हनुमत यज्ञ जो दिनांक 15.02.2024 से दिनांक 23.02.2024 तक जयंती स्टेडियम भिलाई छ. ग. मे होने जा रहे उक्त कार्य क्रम श्री राम के गुरु महर्षि वशिष्ठ के वंशज पद्मविभूषण जगद्गुरू रामानंदाचार्य स्वामी रामभद्राचार्य महाराज द्वारा संपन्न होने जा रही। श्री राम कथा की बागडोर पुनः सांसद विजय बघेल, संयोजक-सह- संरक्षक, समिति- माता कौशल्या मानस प्रचारिणी सभा, भिलाई छ ग एवं आश्रम राम मिलेंगे,तेंदुआ धाम,शिवरीनारायण छ ग के मार्गदर्शन मे करवाने बजरंग बलि ने चुना है। यह जानकारी समिति अध्यक्ष मनीष सिंह गौर द्वारा प्रेस वार्ता कर दी गयी। प्रेस वार्ता मे सासंद विजय बघेल स्वयं उपस्थित थे।

समिति के और अन्य समान- धर्मा संथाओं के तत्वावधान में ईश्वरीय प्रेरणा,संत- समाज के आशीर्वाद और जनता- जनार्दन के विराट सहयोग से भगवान राम के ननिहाल प्रांत छत्तीसगढ़ के भिलाई नगर स्थित जयंती स्टेडियम में दिनांक 15.02.2024 से दिनांक 23.02.2024 तक परम पूज्य पद्मविभूषण, जगद्गुरू रामानंदाचार्य तुलसीपीठाधीश्वर: चित्रकूट धाम,सर्वजन- प्रिय,स्वामी रामभद्राचार्य महाराज के श्रीमुख से सनातनकाल से लोकप्रेरक भगवान श्रीराम की अवतार कथा तथा उनके दिव्य सान्निध्य में 1008 कुंडीय श्रीहनुमत्महायज्ञ का अभूतपूर्व आयोजन किया जा रहा है। जिसका उद्देश्य मानव मात्र की भव पीड़ा के हरण- निवारण के साथ साथ समाज और राष्ट्रचेतना का जागरण है।

प्रातः स्मरणीय परम पूज्य पद्मविभूषण, जगद्गुरू रामानंदाचार्य तुलसीपीठाधीश्वर: चित्रकूट धाम,सर्वजन- प्रिय,स्वामी रामभद्राचार्य जी महाराज वर्तमान में जन जन एवं लोकमानस में राम कथा आदि के माध्यम से सनातन चेतना की अलख जगा रहे है, वे मात्र दो माह की आयु में ही प्रज्ञा चक्षु हो कर भी प्रभु श्री राम जी की कृपा से 22 से अधिक भाषाओं के विद्वान है वे सर्व शास्त्र ज्ञाता एवं व्याख्याता के रूप में प्रसिद्ध है अनगिनित शास्त्र व सभी वेद पुराण श्रीं मद भगवत गीता, श्री रामचरित मानस एवं अनेकों ग्रंथ पृष्ट संख्या एवं श्लोक क्रमांक सहित कंठस्थ है उनके द्वारा दिये गए धारा प्रवाह शास्त्र सम्मत साक्ष्यों ने लगभग 500 वर्षों से उलझे राम जन्म भूमि प्रकरण में उच्चतम न्यायालय में अपनी सर्वोच्च भूमिका निर्वहन करते हुए शास्त्र सम्मत 441 प्रमाण दिए जिसमे 437 स्पष्ट दृश्य एवं शेष 4 समय के साथ धूमिल थे, माननीय उच्चतम न्यायालय के समुचित निर्णय उपरांत ही अयोध्या में वर्ष 2020 में श्री राम जन्म भूमि पर भगवान राम के भव्य मंदिर की नीव रखी गई, मुस्लिम जज ने उनकी दी हुई गवाही के आधार पर उनके अंदर डिवाईंन पॉवर अर्थात दैवीय शक्ति होने की बात भरी अदालत मे स्वीकार की अपनी उस विद्वता से उनको चलता फिरता एनसाइक्लोपीडिया कहा जाता है। आज हिंदू अस्मिता के प्रतीक अयोध्या मे नवनिर्मित श्री राम मंदिर हम हिंदुओं को प्राप्त होने में गुरुदेवश्री की प्रमुख एवं उल्लेखनीय भूमिका है।

दिनांक 26.08.2023 को चित्रकूट में परम पूज्य गुरुदेवश्री के समक्ष संस्था कार्यकारिणी के रामचरण-अनुरागी सदस्यों यथा समिति अध्यक्ष मनीष सिंह गौर,निलेश पाठक ,डॉ सुधाकर तिवारी राजेश कुमार शुक्ला,निलेश शुक्ला,हेमंत गुप्ता और अजय तिवारी द्वारा इस कार्यक्रम आयोजन के रामसेतु- बंध जैसे कठिन इस कार्य का विनीत संकल्प लिया गया,जो जगद्गुरु के आशीर्वाद व मार्गदर्शन में, प्रभु- कृपा से रीछ- वानर- गिलहरी सहयोग से सहजता पूर्वक शीघ्र संपन्न होने जा रहा है। भिलाई-इस्पात-संयंत्र के उच्चाधिकारियों के सहयोग के लिए जन- मानस सदैव उनके प्रति आभारी रहेगा। यह कार्यक्रम पूरी तरह से लोक कल्याणार्थ, सांस्कृतिक और सामाजिक है, एवं इस हेतु कोई शासकीय अनुदान नहीं लिया जा रहा है, अतएव इसके अपेक्षित विशाल स्वरूप के बाद भी स्वतः स्फूर्त वालंटियर्स की देख- रेख के अतिरिक्त सुरक्षा एवं व्यवस्था बनाए रखने में स्थानीय एवं राज्य- प्रशासन के अभीष्ट तथा अनमोल सहयोग के लिए उन्हें अग्रिम साधुवाद देना हम सब का अनिवार्य नागरिक कर्तव्य है।कार्यक्रम विवरण संलग्न है।

कार्यक्रम संक्षेपिका :-

14.02.2024 से 23.02.2024 तक प्रतिदिन
14.02.2023 समारंभ

काशी के विद्वान आचार्यों के द्वारा सनातन शास्त्रोक्त विधि विधान से श्री सिद्धिप्रदाता गणेश /हनुमत पूजन:
दोपहर 2 से 2.15 बजे… सेक्टर 05 गणेश जी के मंदिर में संपन्न होगा.

दोपहर 2.15 सनातन नारीशक्ति अर्थात माताओं, बहिनों द्वारा दिव्य-कलश-यात्रा।
(उक्त दिव्य-कलश-यात्रा यात्रा सेक्टर 05 स्थित सिद्ध गणेश जी के मंदिर से आरंभ होकर जयंती स्टेडियम / यज्ञ स्थल /रामकथा मंच पर आहूत होगी।)

15.02.20230 से 23.02.2023 तक प्रतिदिन,_*1008 कुंडीय श्री श्री हनुमत महायज्ञ
प्रातः 9 बजे से दोपहर 1.00 बजे तक।

प्रभु श्री राम पवन पुत्र हनुमान एवं वर्तमान समय के तुलसी दास समरूप जगद्गुरु रामानंदाचार्य, पद्मविभूषित स्वामी रामभद्राचार्य जी महाराज के पावन आशीर्वाद के एवं

बाल योगेश्वर राम बालक दास महात्यागी पाटेश्वर धाम (महायज्ञ संचालक एवं सानिध्य)
श्रीराम कथा
प्रतिदिन _दोपहर 2.30 से संध्या 6.30 बजे तक।


Related Articles