नगरीय निकाय जनवादी सफाई कामगार यूनियन ने भिलाई निगम कमिश्नर को सौंपा ज्ञापन: ठेकेदार की समस्त पेंडिंग सिक्योरिटी अमाउंट पर रोक लगाने की मांग… आयुक्त ने दिया ये अश्वासन

भिलाई। नगरीय निकाय जनवादी सफाई कामगार यूनियन संबंध्द छग मुक्ति मोर्चा मजदूर कार्यकर्ता समिति ने बयान जारी कर बताया कि आज जनवादी सफाई कामगार यूनियन के प्रतिनिधियों ने नगर निगम भिलाई आयुक्त से मुलाकात कर सफाई कामगारों के समस्याओं के संबंध में ज्ञापन पत्र सौंपा गया। जिसमें प्रमुख रूप से पूर्व ठेकेदार पी वी रमन द्वारा सफाई कामगार के भविष्य निधि एवं ईएसआईसी अंशदान राशि जमा कराने, वैशाली नगर जोन 02 के नियोजित 142 सफाई कामगारों के बकाया वेतन की भुगतान एवं कथित ठेकेदार की समस्त देयक अमानत राशि पर रोक लगाने सहित सफाई कामगारों के मासिक वेतन भुगतानों की सूक्ष्मता से जांच करने की भी मांग किया गया है।

उपर्युक्त सभी मुद्दों पर आयुक्त देवेश कुमार ध्रुव ने कहा कि कथित ठेकेदार को कामगारों के पीएफ, ईएसआईसी राशि जमा करने कहा गया है, ठेकेदार का देयक अमानत राशि भुगतान नहीं किया जायेगा तथा ठेकेदार के खिलाफ कार्रवाई हेतु कानूनी मशवरा लिया जा रहा व कामगारों के बकाया भुगतान करने कि अश्वासन दिया गया है। यूनियन ने बयान में आगे कहा कि ब्लेक लिस्टेड ठेकेदार के विरुद्ध भविष्य निधि कार्यालय पंडरी रायपुर में भी कथित ठेकेदार के खिलाफ 7(ए) के तहत शिकायत पंजीबद्ध कर कार्रवाई किया जा रहा है।

ज्ञात हो कि नगर निगम भिलाई द्वारा वर्ष 2021-22 में संपूर्ण भिलाई क्षेत्र के नाली ,झाड़ू, डोर टू डोर कचरा कलेक्शन एवं एसआरएम कंपोस्ट सेंटर (अपशिष्ट प्रबंधन) हेतु ठेकेदार पी वी रमन तालपुरी रिसाली निवासी को ठेका सफाई कार्य हेतु अधिकृत किया गया था लेकिन ठेकेदार द्वारा सारे नियमों-कानूनों की अनदेखी कर कामगारों के मासिक वेतन, कार्य उपस्थिति, पीएफ, ईएसआईसी जैसी सामाजिक, स्वस्थ सुरक्षाओं के अंशदान राशि में जमा करने में भारी गोलमाल किया गया एवं लापरवाही बरती गई थी। जिसकी शिकायत यूनियन द्वारा लगातार स्थानीय जिला प्रशासन, पीएफ- ईएसआईसी कार्यालय ,निकायों के प्रतिनिधि एवं पूर्व आयुक्त महोदय से करते आ रहे थे।

भारी अनियमितता के कारण ही ठेकेदार को नगर निगम धमतरी, नगर निगम रिसाली एवं भिलाई नगर निगम में भी ब्लैक लिस्टेड घोषित किया गया था उसके उपरांत भी एंजेसी के रूप स्थानीय निकाय में अधिकृत कर दिया गया था जिसके कारण कई कई दिनों तक सफाई कामगारों को वेतन भुगतान हेतु काम बंद आंदोलनों का सहारा लेना पड़ा था एवं आम नागरिकों को भी परेशानीयों का सामना करना पड़ा था एवं ठेकेदार के खिलाफ कई मामले आज भी श्रम विभाग दुर्ग में भी पेंडिंग हुआ हैं। यूनियन ने आयुक्त से एसआरएम कम्पोस्ट सेंटरो के समस्त सफाई कामगारों के मासिक वेतन भुगतान, पीएफ, ईएसआईसी सामाजिक सुरक्षा की व्यवस्था को यथावत बनाए रखने की भी मांग किया गया है।

खबरें और भी हैं...
संबंधित

छत्तीसगढ़ में पुलिस और नक्सलियों के बीच एनकाउंटर: 8...

File Photo नारायणपुर। छत्तीसगढ़ में सुरक्षाबलों और नक्सलियों के बीच मुठभेड़ की खबर सामने आ रही है। मिली जानकारी के अनुसार, छत्तीसगढ़-महाराष्ट्र राज्य की सीमा...

नेशनल आर्म रेसलिंग में छत्तीसगढ़ के खिलाडियों का दबदबा:...

भिलाई। नेशनल आर्म रेसलिंग में छत्तीसगढ़ के खिलाडियों ने कमाल प्रदर्शन किया है। 21 पदक जीतने वाले खिलाड़ियों को वैशाली नगर विधायक रिकेश सेन...

छत्तीसगढ़ में अवैध कोल लेवी वसूली मामला: EOW ने...

रायपुर। प्रदेश में 570 करोड़ के कोल लेवी वसूली मामले EOW ने दो लोगों को गिरफ्तार किया है। 13 जून को ईओडब्ल्यू ने बिलासपुर...

शराब घोटाले मामले में अनवर ढेबर को मिली राहत,...

बिलासपुर। छत्तीसगढ़ में शराब घोटाले मामले में हाईकोर्ट ने आरोपी अनवर ढेबर को जमानत दे दी है। ढेबर ने मेडिकल ग्राउंड के साथ ही...

ट्रेंडिंग