Bhilai Times

दुर्ग में सहारा प्रमुख के खिलाफ FIR; पैसे के लिए कंपनी ने कराई प्रतियोगिता…नहीं दिए 2 करोड़, कोर्ट आदेश के बाद FIR

दुर्ग में सहारा प्रमुख के खिलाफ FIR; पैसे के लिए कंपनी ने कराई प्रतियोगिता…नहीं दिए 2 करोड़, कोर्ट आदेश के बाद FIR

भिलाई। सहारा इंडिया परिवार ने अपने व्यापार को बढ़ाने के लिए प्रतियोगिता महोत्सव में करोड़ों की रकम जीतने वाली परिवादिनी को रकम न प्रदान कर धोखाधड़ी की। इस मामले में कोर्ट के आदेश के बाद सोमवार को दुर्ग कोतवाली पुलिस ने सहारा इंडिया परिवार के चेयरमैन सुब्रत राय सहारा सहित 10 लोगों के खिलाफ अपराध दर्ज किया गया है।

दुर्ग कोतवाली टीआई भूषण एक्का ने बताया कि आशीष नगर रिसाली निवासी शालिनी जैन सहारा इंडिया की दुर्ग शाखा में एजेंट का कार्य 30 सितंबर 2010 से कर रही थी।

सहारा इंडिया परिवार द्वारा अपने व्यापार को बढ़ाने हेतु प्रतियोगिता महोत्सव 2015 का आयोजन किया गया था। परिवादिनी को प्रतियोगिता महोत्सव में दो करोड़ रुपए का द्वितीय पुरस्कार एवं गोल्ड ड्रा के तहत 1 लाख रुपये तथा 50000 रुपए का पुरस्कार प्राप्त हुआ था, जो परिवादिनी को नहीं मिला।

इसके बाद परिवादिनी ने धोखाधड़ी की शिकायत दर्ज कराई थी। टीआई श्री एक्का ने बताया कि इस मामले में कोर्ट के आदेश के बाद अब सहारा इंडिया परिवार के चेयरमैन सुब्रत राय सहारा लखनऊ ऑफिस के उप प्रबंध संचालक ओम प्रकाश श्रीवास्तव, अधिशासी निदेशक अलखकुमार सिंह, विभागाध्यक्ष समरीन जैदी, सुधीर कुमार श्रीवास्तव, तत्कालीन एरिया मैनेजर विनय श्रीवास्तव, तत्कालीन क्षेत्रीय प्रबंधक मनोज पांडे, तत्कालीन शाखा प्रबंधक आलोकसुहाने, तत्कालीन लिपिक जय प्रकाश सिंह, पप्पू यादव के खिलाफ धारा 420, 406, 409 तथा 120 बी के तहत अपराध दर्ज किया गया है।

शालिनी ने जीते थे 2 करोड़ रुपए
सहारा इंडिया परिवार द्वारा अपने व्यापार को बढ़ाने हेतु प्रतियोगिता महोत्सव 2015 का आयोजन किया गया था। उक्त प्रतियोगिता की अवधि 31 मई 2016 तक बढ़ा दी गई थी। उक्त प्रतियोगिता में कई प्रकार के पुरस्कारों की घोषणा की गई थी, जिसमें परिवादिनी शालिनी जैन ने भी हिस्सा लिया था। प्रतियोगिता के नियम के अनुसार शालिनी जैन को विभिन्न ग्रुपों में प्राप्त प्लेटिनम ड्रा के माध्यम से 2 करोड़ रुपए का द्वितीय पुरस्कार प्राप्त हुआ था एवं गोल्ड ड्रा के माध्यम से 1 लाख रुपये तथा 1 हजार रुपए का कुल 3 पुरस्कार प्राप्त हुए थे।


Related Articles