Bhilai Times

फैट टू फिट की कहानी: लेडी IAS ने बना लिया खुद को इतना फिट की, अब पहचानना भी हुआ मुश्किल… कई किलो किया अपना वजन कम… पढ़िए उनकी Transformation Journey की ये स्टोरी

फैट टू फिट की कहानी: लेडी IAS ने बना लिया खुद को इतना फिट की, अब पहचानना भी हुआ मुश्किल… कई किलो किया अपना वजन कम… पढ़िए उनकी Transformation Journey की ये स्टोरी

नई दिल्ली। मोटापा कई बीमारियों की जड़ है. बिजी लाइफ, गलत खानपान की वजह से वजन बढ़ जाता है. कई ऐसी शख्सियत हैं, जिन्होंने खुद का ट्रांसफार्म किया है. एक ऐसी ही IAS के फिटनेस की कहानी आपको बता रहे हैं. 2008 बैच की IAS सोनल गोयल ने खुद को इस तरह फिट किया है कि अब उन्हें पहचानना मुश्किल हो जायेगा. त्रिपुरा कैडर की IAS सोनल को ऑल इंडिया में 13वीं रैंक थी. वो अभी त्रिपुरा भवन दिल्ली में रेजिडेंट कमिश्नर है.

मीडिया से बात करते हुए आईएएस ऑफिसर ने अपनी फिटनेस जर्नी शेयर की और यह भी बताया कि जो लोग जिम नहीं जाते हैं, वे कैसे अपने आपको फिट कर सकते हैं.

कौन हैं ये महिला IAS ऑफिसर
अपने आपको फिट करने वाली IAS ऑफिसर का नाम सोनल गोयल (IAS Sonal Goel) है. 2008 में UPSC में ऑल इंडिया में 13वीं रैंक हासिल करने के बाद वे भारतीय प्रशासनिक सेवा में शामिल हुई थीं. उनकी पहली पोस्टिंग त्रिपुरा में असिस्टेंट कलेक्टर के रूप में हुई थी. अभी वे त्रिपुरा भवन, दिल्ली में रेजिडेंट कमिश्नर की पोस्ट पर हैं.

ऐसी थी फिटनेस जर्नी
IAS सोनल बताती हैं, स्वस्थ्य रहना सभी के लिए काफी जरूरी है, खासकर महिलाओं के लिए. प्रेग्नेंसी के बाद महिलाओं का वजन बढ़ जाता है, जो मेरे साथ भी हुआ. मेरी शादी 2009 में हुई थी, जिसके बाद मेरा वजन बढ़ना शुरू हो गया था. 2013 में जब मेरे पहले बच्चे का जन्म हुआ, तब त्रिपुरा में थी उस समय मेरा वजन काफी अधिक हो गया था. क्योंकि प्रेग्नेंसी, प्रसव और हार्मोनल चैंजेस के कारण थोड़ा वजन स्वाभाविक था. इसके बाद मैंने हल्की-फुल्की एक्सरसाइज करना शुरू किया.

जुलाई 2016 में हरियाणा इंटर कैडर डेप्यूटेशन पर पोस्टिंग हुई. फिर 2017 के आखिर में जब मेरी झज्जर में अपनी पोस्टिंग हुई तो मैंने घर पर एरोबिक्स, ज़ुम्बा, योग और कुछ एक्सरसाइज करना शुरू की. जिससे बिजी शेड्यूल के बाद भी मैंने कुछ समय में 13-14 किलो वजन कम कर लिया और मैं अपने सही बीएमआई तक पहुंच गई.

मेरा जैसे-जैसे वजन कम हुआ, मैं अपने आपमें काफी एनर्जेटिक महसूस करने लगी क्योंकि मैं फिट होती जा रही थी. फिर जब 2018 में दूसरी प्रेग्नेंसी हुई तब डॉक्टर की सलाह पर मैंने योग और एक्सरसाइज किए. अपने दूसरे बच्चे के जन्म के बाद मैंने फिर से पहले जैसी फिटनेस पाने का मन बनाया और कई कोशिशों के बाद मैं फिर से वैसी ही हो गई, जैसी मैं प्रेग्नेंसी के पहले थी.

वजन कम करने के लिए मैंने डाइट नहीं की थी, बल्कि अपने खाने की आदतों को बदला था. फिट होने के लिए मैंने जंक और फास्ट फूड को अपने खाने से हटा दिया था. ऑफिस की मीटिंग्स में चाय, कॉफी, स्नैक्स का सेवन कम कर दिया था और घर पर बने खाने पर जोर दिया था.

इसके अलावा में खाने में शरीर की जरूरत के मुताबिक सलाद, दाल, रोटी, चावल का सेवन करती थी. मैं पानी खूब पीती थी. पैदल चलने पर जोर देती थी और इसके अलावा सुबह समय निकालकर जुंबा, योग, प्राणायाम जैसी एक्टिविटी भी करती थी. फिर जैसे-जैसे मेरा वजन कम होता गया, मेरी खोई हुई फिटनेस मुझे वापस मिल गई. अब मैं पहले से अधिक एनर्जेटिक महसूस करती हूं.

सभी लोग इस तरह हो सकते हैं फिट
IAS सोनल कहती हैं, मुझे पहले फिटनेस के बारे में इतनी जानकारी नहीं थी, लेकिन जब मैंने इंटरनेट पर पढ़ना शुरू किया, जिससे मुझे काफी जानकारी मिली. इसलिए हमेशा अपनी नॉलेज बढ़ाने के लिए फिटनेस और हेल्थ के बारे में जरूर पढ़ें. अगर किसी को काम, पढ़ाई या परिवार की जिम्मेदारी के कारण जिम जाने का समय नहीं मिल पा रहा है तो घर के पास पार्क में भी टहल सकते हैं या समय मिलता है तो घर में ही एरोबिक एक्सरसाइज कर सकते हैं.

डाइट करने की अपेक्षा क्वीन फूड खाएं. ऑयली और प्रोसेस्ड फूड का कम से कम इस्तेमाल करें और सब्जियां और फलों को खाने में शामिल करें. बस इन आसान तरीकों से कोई भी अपनी खोई हुई फिटनेस को वापस पा सकता है या उसे मेंटन कर सकता है.


अगर कोई फिट रहेगा तो वह अधिक प्रोडक्टिव रहेगा और आगे बढ़कर हर काम कर पाएगा. इसलिए हमेशा अपनी ओवरऑल फिटनेस पर ध्यान दें. फिजिकल फिटनेस के साथ मेंटल फिटनेस पर भी फोकस रखें. अगर आप फिट रहेंगे तो आप अपने परिवार और दोस्तों को भी फिट रहने के लिए मोटिवेट कर पाएंगे.

(कंटेंट सोर्स – AajTak.in)


Related Articles