CG में सड़क हादसे में घायल की मौत के बाद हंगामा: अस्पताल में जमकर चले लात-घूंसे… घरवालों ने लगाया इलाज में लापरवाही का आरोप… जानिए क्या है पूरा मामला

Uproar after the death of the injured in a road accident in CG

बिलासपुर। छत्तीसगढ़ के बिलासपुर जिले में उस वक्त हंगामा मच जिस दौरान सड़क हादसे में घायल बालक की उपचार के दौरान अस्पताल में मौत हो गई। इसके बाद स्वजन ने अस्पताल प्रबंधन पर इलाज में देरी का आरोप लगाया तो उनसे मारपीट की गई। बालक की मौत और परिवारवालों से मारपीट की जानकारी लगते ही गांव के लोग बड़ी संख्या में अस्पताल पहुंच गए। तनाव की स्थिति को देखते हुए अस्पताल पुलिस छावनी बन गया। आधा दर्जन टीआई, पुलिस अफसर और जवान भीड़ को समझाइश देने में जुटे रहे। परिजन अब एफआईआर और मुआवजे की मांग पर अड़ गए हैं। पूरा मामला तोरवा थाना क्षेत्र का है।

मस्तूरी थाना क्षेत्र के बकरकुदा निवासी निशु बर्मन (25) सोमवार की शाम सड़क हादसे में गंभीर रूप से घायल हो गया। इस पर परिजन उसे लेकर तोरवा चौक स्थित स्वास्तिक हॉस्पिटल पहुंचे। अस्पताल में इलाज शुरू होने से पहले ही उसकी मौत हो गई, जिससे नाराज परिजनों ने इलाज में देरी और लापरवाही बरतने का आरोप लगाकर हंगामा मचाने लगे। इस दौरान अस्पताल स्टाफ से उनका विवाद हो गया और कर्मचारियों ने मिलकर परिजन उनकी जमकर पिटाई कर दी, जिससे आदित्य बर्मन बुरी तरह से घायल हो गया। उसे इलाज के लिए लाइफ केयर अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

परिजनों का आरोप है कि अस्पताल प्रबंधन ने पहले उनसे पैसे जमा करने के लिए कहा। उन्होंने इलाज करने की गुहार लगाई। लेकिन उनकी एक नही सुनी गई। इसके कुछ ही देर में डॉक्टरों ने निशु को मृत घोषित कर दिया। इससे माहौल बिगड़ गया। निशु के घरवालों ने डॉक्टरों पर इलाज में लापरवाही बरतने का आरोप लगाते हुए हंगामा मचाना शुरू कर दिया।

गंभीर रूप से घायल युवक के परिजन इलाज कराने के लिए डॉक्टर और स्टाफ से मिन्नतें करते रहे। लेकिन, किसी ने ध्यान ही नहीं दिया। एक डॉक्टर ने जांच किया लेकिन इलाज शुरू नहीं किया और दूसरी जगह चले गए। कुछ देर बाद दूसरा डॉक्टर आया, उसने पैसे जमा करने की बात कही। तब परिजन उपचार शुरू करने का आग्रह करने लगे। लेकिन, इसी बीच घायल युवक की मौत हो गई, तब परिजनों का गुस्सा फूट पड़ा।

परिजन के हंगामा मचाने पर अस्पताल के कर्मचारियों ने पहले निशु के परिजनों को समझाने का प्रयास किया। अस्पताल में हंगामा मचाने से मना करते हुए उन्होंने मारपीट शुरू कर दी। देखते ही देखते कर्मचारियों ने हाथ-मुक्के और लात घूसों से निशु के चाचा आदित्य बर्मन सहित अन्य की जमकर पिटाई करने लगे, जिससे आदित्य बुरी तरह से घायल हो गया। वहीं एक अन्य परिजन को भी चोंट लगी है।

इस हमले में घायल आदित्य बर्मन ने अपने रिश्तेदार और परिचितों को बुलाया। फिर देखते ही देखते सतनामी समाज के लोगों की भीड़ अस्पताल पहुंच गई। आरोप है कि उन्होंने भी अस्पताल स्टाफ के साथ मारपीट की है। अस्पताल का घेराव और हंगामे की खबर मिलते ही पुलिस की टीम वहां पहुंच गई, तब भीड़ ने हंगामा मचाते हुए अस्पताल प्रबंधन के खिलाफ नारेबाजी करते हुए कार्रवाई की मांग की। इस बीच एएसपी सिटी राजेंद्र जायसवाल के साथ तोरवा, सिटी कोतवाली, सिविल लाइन, सरकंडा, तारबाहर टीआई सहित पुलिस मौके पर पहुंच गई। पुलिस अफसर भीड़ को समझाइश देने का प्रयास करते रहे। इसके चलते वहां देर रात तक तनाव की स्थिति बनी रही।

प्रदर्शनकारी मारपीट करने वाले अस्पताल प्रबंधन पर हत्या के प्रयास और एट्रोसिटी एक्ट के तहत केस दर्ज करने की मांग पर अड़े रहे। भीड़ देर रात तक अस्पताल के बाहर हंगामा मचाती रही। वहीं, मृतक के परिजन को दस लाख रुपए मुआवजा देने की मांग करते रहे।

इस घटना के बाद आक्रोशित भीड़ ने चक्काजाम की भी कोशिश की। पुलिस ने काफी समझाइश देकर मामले को शांत कराने की कोशिश की। इस दौरान अस्पताल में पथराव भी होने लगा। इस बीच भीड़ को नियंत्रित करने पुलिस को भी लाठियां लहरानी पड़ी। पुलिस अफसरों की लगातार समझाइश के बाद भी आक्रोशित भीड़ अस्पताल के बाहर जमी रही।

इस पूरे विवाद और हंगामे पर अस्पताल प्रबंधन का पक्ष जानने के लिए मीडियाकर्मी जुटे रहे। अस्पताल संचालक डॉ.अभिषेक मिश्रा से बातचीत करने का प्रयास किया गया। लेकिन, वे मीडिया के सामने नहीं आए। अस्पताल प्रबंधन की तरफ से कहा गया कि अस्पताल में क्रिटिकल केस लेने से मना किया गया था। परिजनों से पैसे की मांग नहीं की गई है। घायल युवक की हालत गंभीर थी और इलाज शुरू होने से पहले ही उसकी मौत हो गई। उनका यह भी आरोप है कि अस्पताल के कर्मचारियों से परिजनों ने मारपीट की है।

खबरें और भी हैं...
संबंधित

बलौदाबाजार कलेक्टर दीपक सोनी की अपील: DM ने जिलेवासियों...

बलौदाबाजार। बलौदाबाजार कलेक्टर दीपक सोनी ने सोमवार को अवैधानिक, गैर कानूनी अथवा लोक शांति भंग करने वालों की जानकारी कंट्रोल रूम में देने की...

CM साय अपने चचेरे भाई के दशगात्र कार्यक्रम में...

रायपुर। छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री विष्णुदेव साय सोमवार को अपने गृह जिले जशपुर के ग्राम बन्दरचुंआ पहुंचे। यहां वे अपने चचेरे भाई एवं जशपुर नगर...

बस्तर संभाग के इन तीन जिलों के तेन्दूपत्ता संग्राहकों...

सुकमा, बीजापुर और नारायणपुर जिले के तेन्दूपत्ता संग्राहकों को किया जाएगा नगद भुगतान इन जिलों में बैंकों की शाखाएं दूर होने की वजह से CM...

100 साल से अधिक पुराना हुआ दुर्ग का हिन्दी...

दुर्ग। दुर्ग में संभागीय आयुक्त कार्यालय का पता अब बदलने वाला है। आपको बता दें, 29, अप्रैल 2014 से दुर्ग संभाग नव गठित होकर...

ट्रेंडिंग