छत्तीसगढ़ में 1 और जवान शहीद: नक्सलियों ने प्लांट कर रखा था IED… सर्चिंग के दौरान एक जवान का पैर विस्फोटक के ऊपर आया; जबरदस्त धमाका… मौके पर जवान ने तोड़ा दम; कल सुकमा में 3 जवान हुए थे शहीद; राजनांदगाव में भी 2…

  • सर्चिंग पर निकली थी CAF और DRG की सयुंक्त टीम
  • IED ब्लास्ट में CAF के प्रधान आरक्षक संजय लकड़ा हुए शहीद
  • पार्थिव देह को उनके गृहगांव जशपुर के बाम्हनपुरा रवाना किया जाएगा
  • कल सुकमा में नक्सलियों के साथ मुठभेड़ 3 जवान हुए थे शहीद
  • राजनांदगाव में भी 2 जवानों को नक्सलियों के उतारा था मौत के घाट

नारायणपुर। छत्तीसगढ़ में एक और जवान की शहीद होने की खबर सामने आ रही है। ये दुखद घटना नारायणपुर जिले में हुई है। बताया जा रहा है कि, IED ब्लास्ट की चपेट में आने से एक जवान शहीद हो गया है। शहीद जवान की पहचान संजय लकड़ा जशपुर जिले के रहने वाले के रूप में हुई है। वे नारायणपुर जिले में CAF (छत्तीसगढ़ आर्म फोर्स) की 16वीं बटालियन में प्रधान आरक्षक के पद पर पोस्टेड थे।

नक्सल प्रभावित ओरछा के बटुम इलाके में CAF, DRG की संयुक्त टीम नक्सल ऑपरेशन पर निकली हुई थी। यहां नक्सलियों ने जवानों को क्षति पहुंचाने पहले से ही IED प्लांट कर रखा था। जब सर्चिंग करते हुई जवानों की टीम इलाके में पहुंची तो संजय लकड़ा का पैर IED पर आ गया। जिससे जोर का घमाका हुआ। ब्लास्ट के बाद जवान संजय लकड़ा मौके पर ही शहीद हो गए। घटना के बाद साथी जवानों ने मौके से शव को ओरछा कैंप लाया। फिर वहां से नारायणपुर हेडक्वार्टर लाया गया।

ASP हेमसागर सिदार ने बताया कि, यहां जवान को अंतिम विदाई देने के बाद उनके पार्थिव देह को उनके गृहगांव जशपुर के बाम्हनपुरा रवाना किया जाएगा। उन्होंने बताया कि, माओवादियों की खिलाफ ऑपरेशन जारी है। घटना नारायणपुर जिले के ओरछा थाना इलाके का है।

कल सुकमा में 3 जवान हुए थे शहीद

एक दिन पहले नक्सलियों ने सुकमा जिले के नक्सल प्रभावित क्षेत्र जगरगुंडा और कुंदेड़ के बीच जवानों को एंबुश में फंसाया था। यहां पुलिस और नक्सलियों के बीच करीब 1 घंटे तक मुठभेड़ चली। हालांकि, नक्सलियों की गोली लगने से DRG के तीन जवान शहीद हो गए थे। पुलिस ने दावा किया था कि, जवानों ने इस मुठभेड़ में 5 से 6 नक्सलियों को भी ढेर किया है।

हफ्ते भर पहले राजनांदगाव में 2 जवान शहीद

20 फरवरी को राजनांदगांव जिले बॉर्डर गश्त पर गये दो जवान नक्सली हमले में शहीद हो गए थे। जिले के बोरतलाब के पास सुबह 5 से 6 बजे के बीच महाराष्ट्र बार्डर के पास ड्यूटी पर तैनात जिला बल के हवालदार राजेश सिंह और ललित कुमार समर्थ आरक्षक सीएएफ बिना हथियार के बॉर्डर गश्त पर गये थे। राजनांदगांव जिला पुलिस के पुख्ता सूत्रो के के अनुसार, इसी दौरान 8 से 10 हथियारबंद नक्सलियो ने जवानों को गोली मारकर फरार हो गए।

खबरें और भी हैं...
संबंधित

छत्तीसगढ़ में साय कैबिनेट के अहम फैसले: छत्तीसगढ़ बेवरेज...

रायपुर। छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री विष्णु देव साय की अध्यक्षता में बुधवार को मंत्रालय महानदी भवन में कैबिनेट की बैठक आयोजित की गई। बैठक में...

सीनियर IPS ऑफिसर रतन लाल डांगी बने डॉक्टर: हेमचंद...

रायपुर, दुर्ग। हेमचंद यादव विश्वविद्यालय, दुर्ग के शोधार्थी स्तन लाल डांगी (वरिष्ठ आई. पी. एस) ने आज विश्वविद्यालय के टैगोर हॉल में अपने शोध-प्रबंध...

कैबिनेट बैठक के दौरान मंत्री पद से बृजमोहन अग्रवाल...

रायपुर। छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर से इस वक्त की बड़ी खबर सामने आ रही है। साय कैबिनेट की बैठक चल रही थी इसी दौरान्बृजमोहन...

नई दिल्ली में रिपब्लिक डे परेड में शामिल कैडेट्स...

अनुशासन, साहस और निस्वार्थ भाव से सेवा के लिए प्रेरित करता है एनसीसी: मुख्यमंत्री विष्णु देव साय रायपुर। नई दिल्ली में रिपब्लिक डे परेड में...

ट्रेंडिंग