Bhilai Times

डॉ खूबचन्द बघेल जयंती समारोह में शामिल हुए सीएम भूपेश बघेल: स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों के प्रतिमा का किया अनावरण, नव निर्मित रेस्ट हाउस का लोकार्पण किया

डॉ खूबचन्द बघेल जयंती समारोह में शामिल हुए सीएम भूपेश बघेल: स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों के प्रतिमा का किया अनावरण, नव निर्मित रेस्ट हाउस का लोकार्पण किया

दुर्ग। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल आज दुर्ग जिले के पाटन विकास खण्ड के ग्राम दरबार मोखली में मनवा कुर्मी क्षत्रिय समाज पाटन राज द्वारा आयोजित डॉ खूबचन्द बघेल जयंती समारोह में शामिल हुए। इससे पूर्व मुख्यमंत्री बघेल ने स्वतंत्रता संग्राम सेनानी स्व. घनाराम बंछोर और स्व.गेंदलाल बंछोर के प्रतिमा का अनावरण कर श्रद्धासुमन अर्पित किया। उन्होंने दरबार मोखली में 46.88 लाख रुपये लागत से जल संसाधन विभाग के नवनिर्मित रेस्ट हाउस का लोकार्पण किया।

इसके अलावा ग्राम दरबार मोखली और ग्राम सेमरी में एक करोड़ 21 लाख 75 हजार लागत के विभन्न निर्माण कार्याे का भी लोकार्पण किया। समारोह को सम्बोधित करते हुए मुख्य अतिथि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा कि दरबार मोखली मेरे पड़ोसी गांव है। स्व गेंदलाल क्षेत्र के पहले वकील थे, गांधी जी से प्रेरित होकर स्वतंत्रता संग्राम में शामिल हुए। गेंदलाल जी छत्तर सिंग को तत्कालीन समय में जो पत्र लिखे है उसमें पूरा विवरण है। पाटन क्षेत्र स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों का गढ़ है। अंग्रेजों के बनाये व्यवस्था के खिलाफ आंदोलन करना बड़ी बात है। डॉ. साहब का व्यक्तित्व बहुत विशाल था। डॉ खूबचंद बघेल का गीत है – गजब विटामिन भरे हुए हैं छत्तीसगढ़ के बासी मा।

हमने बोरे बासी दिवस मनाकर उनके उस गीत और छत्तीसगढ़ के आहार को सम्मान दिया। आज देश में छत्तीसगढ़ की पहचान यहां की संस्कृति से है, लघु वनोपज की खरीदी से है, स्वामी आत्मानंद अंग्रेजी माध्यम स्कूल से है। देश और दुनिया में छत्तीसगढ़ को लेकर सोच में परिवर्तन आया है। पहली बार हमने आदिवासी नृत्य महोत्सव आयोजित किया, जिसमें देश और विदेश के कई नृत्य समूहों ने हिस्सा लिया। हमारा प्रयास छत्तीसगढ़ की प्राचीन, ऐतिहासिक, पौराणिक धरोहर को सामने लाने और सहेजने की है। यह वही परिवर्तन है जिसका सपना हमारे पुरखों ने देखा था कि हर छत्तीसगढ़िया में छत्तीसगढ़ियॉ होने का स्वाभिमान जागे। सभी जिलों में हम छत्तीसगढ़ महतारी की प्रतिमा स्थापित कर रहे हैं। हम छत्तीसगढ़ की संस्कृति को महत्व देने का काम कर रहे हैं। तत्कालीन समय मे समाजिक बुराइयों के खिलाफ सेनानियों ने आवाजे बुलन्द किये।

डॉ. खूबचंद बघेल के 100 वीं जयंती के अवसर पर छत्तीसगढ़ राज्य बना। लेकिन यहां के लोगों को राज्य बनने का सही मायने में अहसास अब हुआ है। मुख्यमंत्री ने छत्तीसगढ़ी के चार चिन्हारी की ओर लोगो को ध्यान दिलाते हुए ग्रमीणों के आर्थिक विकास के लिए सरकार के प्रयासों को अवगत कराया। उन्होंने स्वास्थ, शिक्षा, सड़क, पेयजल और संस्कृति पर विशेष ध्यान देने की बातें कही। राज्यगीत के साथ छत्तीसगढ़ महतारी के मूर्ति की स्थापना की गई है। मुख्यमंत्री जी ने दरबार मोखली में हाई स्कूल का उन्नयन व शीतला तालाब सौंदर्यीकरण की घोषणा की।

छत्तीसगढ़ मनवा कुर्मी छत्रिय समाज के केंद्रीय अध्यक्ष चोवा राम वर्मा ने छत्तीसगढ़़ राज्य के प्रथम स्वप्नद्रष्टा डॉ खूबचन्द बघेल के व्यक्तित्व एवं कृतित्व को विस्तार पूर्वक रेखांकित किया। उन्होंने स्वतंत्रता संग्राम सेनानी स्व. गेंदलाल बंछोर और स्व. घनाराम बंछोर के जीवनी पर प्रकाश डाला। सरपंच आशीष बंछोर ने स्वागत भाषण में ग्राम दरबार मोखली के हाई स्कूल का उन्नयन औऱ शीतला तालाब सौंदर्यीकरण की ओर मुख्यमंत्री का ध्यान आकृष्ट किया।
इस अवसर पर मुख्यमंत्री के ओएसडी आशीष वर्मा, जनपद पंचायत पाटन के उपाध्यक्ष देवेंद्र चंद्रवंशी, जनपद सदस्य वेदना वर्मा, सभापति महिला बाल विकास दुर्गा नेताम, सरपंच आशीष बंछोर, शंकर बघेल एवं राजेश ठाकुर सहित अन्य जनप्रतिनिधि एवं समाजिक पदाधिकारीगण मौजूद थे।


Related Articles