Bhilai Times

चार राज्यों से करोड़ों की ठगी, चार पुलिस गिरफ्त में, सीजी, पंजाब, एमपी और गुजरात में था बड़ा कारोबार…

चार राज्यों से करोड़ों की ठगी, चार पुलिस गिरफ्त में, सीजी, पंजाब, एमपी और गुजरात में था बड़ा कारोबार…

भिलाई। फर्जी कॉल सेंटर संचालित कर लोगों को ठगी का शिकार बनाने वाले 4 युवकों को पुलिस ने दिल्ली से पकड़कर लाया है। घटना का खुलासा करते हुए एसएसपी बीएन मीणा ने बताया कि 16 जुलाई, 2021 को सूर्या नगर सिकोला भाठा निवासी प्रभाकर राव दानीकर ने पुलिस से शिकायत की थी| कि उसे अज्ञात व्यक्तियों द्वारा अलग-अलग नम्बरों से फोन कर इन्शोरेंस की राशि मिलने का झांसा दिया।

इसमें टैक्स, जीएसटी व प्रोसेसिंग चार्ज के नाम पर आवेदक को गुमराह कर बैंक खातों में अलग- अलग दिनांक को किश्तों में कुल 16 लाख 15 हजार रूपए की धोखाधड़ी कर ली। आरोपियों को पकड़ने के लिए एएसपी संजय ध्रुव, नगर पुलिस अधीक्षक दुर्ग जितेन्द्र यादव, उप पुलिस अधीक्षक अपराध नसर सिद्ददिकी समेत सायबर सेल को तकनीकी विश्लेषण कर मामले के अरोपियों को पकड़ने में लगा दिया गया। सायबर सेल की टीम ने घटना में मोबाईल नंबरों की जांच की।

इसमें 16 लाख रूपये के ट्रान्जेक्शन फ्लो की जानकारी समेत अहम सुराग पुलिस के हाथ लगी। मामले में इश्युरेंस के नाम पर धोखाधड़ी कर ठगने के लिए कॉल सेन्टर के माध्यम से लोगों को ठगी का शिकार बनाये जाने की जानकारी टीम को प्राप्त हुई। साउथ दिल्ली के इलाके से प्रार्थी प्रभाकर राव दानीकर को लगातार पिछले 3 वर्षो से अलग – अलग नम्बरों से कॉल कर ग्रुप इंश्यूरेंस की राशि करीबन 4 लाख मिलना है।

इस टीम ने कर दिखाया कमाल:-

अलग किश्तों में खातों में रूपये ट्रान्सफर करा लिए। कॉल सेन्टर द्वारा CGIS ( ग्रुप इन्शोरेन्स कम्पनी के नाम से फोन किया गया था। मामले में प्रभाकर राव दानीकर द्वारा ट्रान्सफर की गई रकम दिल्ली के अलग-अलग स्थानों से निकासी की गई थी। दिल्ली के ही कुछ खाता धारकों के खातों में रकम ऑनलाईन ट्रान्सफर किए गए थे ।

सायबर टीम वरिष्ठ अधिकारियों द्वारा निरीक्षक जितेन्द्र वर्मा थाना प्रभारी मोहन नगर , निरीक्षक गौरव तिवारी प्रभारी सायबर सेल को तत्काल टीम गठित कर दिल्ली, उत्तर प्रदेश में संदेहियों के लोकेशन चिन्हाकित कर दिल्ली, उत्तरप्रदेश के लिए रवाना किया गया। इसके अलावा टीम में उप निरीक्षक राजीव तिवारी, सउनि अशोक साहू, प्रधान आरक्षक संतोष मिश्रा, आरक्षक जुगनु सिंह, अनुप शर्मा, रिन्कू सोनी, उपेन्द्र यादव, केशव साहू को प्रदीप सिंह को शामिल किया गया।

रेड की कार्रवाई के लिए तीन टीम दिल्ली पहुची :-
टीम ने दिल्ली पहुँचकर आरोपियों के संभावित ठिकानों पर लगातार नजर रखी। टीम द्वारा संदेही के चाय दुकान पर जाकर उनसे अच्छे संबंध स्थापित कर अन्य आरोपियों के संबंध में धीरे- धीरे जानकारी प्राप्त किया गया। दिल्ली के किलोकारी में किराया लेने के नाम पर आरोपियों के संबंध में टीम के द्वारा पुख्ता जानकारी प्राप्त हुई।

टीम द्वारा लगातार अलग – अलग बहरूपिया बनकर आरोपियों के संबंध में सम्पूर्ण जानकारी प्राप्त की गई। फिर 3 टीम बनाकर रेड कार्यवाही की गई। इसमें 138 चतुर्थ फ्लोर किलोकारी विलेज महरानी बाग साउथ दिल्ली निवासी साजिद जफर, 141 चतुर्थ फ्लोर किलोकारी विलेज महरानी बाग साउथ दिल्ली सलीम जफर, 128 बी शाहपूराजाट साउथ दिल्ली राजू यादव, 85 डी तैमूर नगर एक्ट्रेशन साउथ दिल्ली रंजन कुमार यादव को गिरफ्तार किया गया।

आरोपियो के पास से पुलिस ने बैंकों के एटीएम कार्ड 2 विभिन्न बैंको के खातों के दस्तावेज बरामद किए गए। आरोपियों के द्वारा उपयोग किये जा रहे अलग-अलग बैंक खातों को फ्रिज कर कोटक महिन्द्रा बैंक के खाता में 1 लाख , 24 हजार रूपये , HDFC बैंक के खाता में 10409 रूपये बैंक ऑफ बड़ोदा बैंक के खाता में 20263 रूपये एवं IDFC बैंक के खातें में 2 हजार रूपये कुल 1,56,672 रूपये होल्ड कराया गया है ।

कर्मचारी बनकर फर्जी कॉल सेन्टर का संचालन :-
आरोपियों द्वारा संगठित होकर Central Government Employees Group Insurance Scheme ( CGIS ) के नाम का गलत उपयोग कर लोगों को इंश्यूरेंस का अधिक रकम मिलने का झांसा देकर अलग- अलग नम्बरों से डायरेक्टर, मैनेजर व कर्मचारी बनकर फर्जी कॉल सेन्टर का संचालन करते हैं।

आरोपियों द्वारा प्रायवेट कम्पनियों से अवैध तरीके से डाटा प्राप्त कर उन्हें पेंशन , परिपक्वता राशि का झांसा देकर अलग-अलग किस्तों में खातों में ट्रान्सफर कर लिया जाता है । आरोपियों के द्वारा प्रारंभिक जाँच में पंजाब , गुजरात, छग, मध्यप्रदेश के लोगों से करोड़ों की ठगी गिरोह द्वारा इसी तरीके से वारदात से किया गया है। सायबर सेल टीम द्वारा अन्य राज्यों से संपर्क स्थापित किया जा रहा है।


Related Articles