नगर पालिका के सब इंजीनियर ने किया सुसाइड: मुंह में नाइट्रोजन गैस भरी, चेहरे पर पॉलीथिन बांधी… सब इंजीनियर ने लगाया मौत को गले… सुसाइड नोट में लिखा – बीमारी से परेशान हूं

नर्मदापुरम। मध्यप्रदेश में नर्मदापुरम नगर पालिका के सब इंजीनियर ने मुंह में नाइट्रोजन गैस भरकर आत्महत्या कर ली। मृतक चेतन भुमरकर बीमारी की वजह से परेशान थे। जिसके चलते उन्होंने जान दे दी। खुदकुशी के लिए भी उन्होंने अलग तरीका अपनाया।

उन्होंने नाइट्रोजन गैस के सिलेंडर का पाइप मुंह में लिया और फिर चेहरे को पॉलीथिन से बांधकर घटना को अंजाम दिया। दो दिन से दरवाजा नहीं खुलने पर खाना बनाने वाली महिला ने रूम पार्टनर और पड़ोसी को जानकारी दी। जिसके बाद पुलिस घर का दरवाजा तोड़कर घर में घुसी और मामले का खुलासा हुआ।

पुलिस के अनुसार अंदर एक कमरे में गद्दे पर उपयंत्री चेतन का शव पड़ा हुआ था। खुदकुशी का तरीका देखकर हर कोई हैरान था। जिसके बाद पुलिस ने एफएसएल टीम को बुलाकर जांच कराई। पुलिस का कहना है कि प्रथम दृष्टया लग रहा है कि पॉलीथिन में भरी नाइट्रोजन गैस से दम घुटने के कारण इंजीनियर की मौत हुई है।

रूम पार्टनर को भेजा गांव, कहा रिश्तेदार आ रहे है
उपयंत्री चेतन के साथ फ्लैट में उनका रूम पार्टनर लखन कुशवाह भी रहता था। लखन ने बताया वह बीएससी फर्स्ट ईयर में है। पिछले महीन चेतन भैया के साथ रहने आया। शनिवार को भैया ने मुझे कहा कि मेरे रिलेटिव आने वाले हैए इसलिए तुम अपने गांव चले जाओ। मैं सेमरीहरचंद अपने गांव चले गया।

रविवार को सुबह और दोपहर में खाना बनाने वाली आंटी का कॉल आया कि दरवाजा अंदर से बंद है। आज फिर उन्होंने मुझे कॉल किया, मैं आया। पड़ोंसियों को जानकारी दी। पुलिस को बुलाकर दरवाजा खुलवाया। अंदर का दृश्य देख हैरान हो गया।

माता-पिता नहीं रहे,खुद रहते थे बीमार
मृतक चेतन भुमरकर बैतूल के रहने वाले थे और मैकेनिकल इंजीनियर थे। उनके ममेरे भाई ने बताया चेतन के माता.पिता का देहांत हो चुका है। छोटी बहन है,जो इंदौर में पढ़ रही है। चेतन नगर पालिका नर्मदापुरम की जल प्रदाय शाखा में बतौर सब इंजीनियर पदस्थ थे।वे बंजारा हिल्स पर नर्मदा परिसर के फ्लैट नंबर 2 में किराए से रहते थे। चेतन कुछ समय से बीमार चल रहे थे, जिसका इलाज वे इंदौर से करा रहे थे।

सुसाइड नोट में बीमारी को बताया वजह
मृतक के पास से एक पेज का सुसाइड नोट भी मिला, जिसमें उन्होंने लिखा, मैं चेतन भुमरकर नगर पालिका में उपयंत्री हूं। मैं बीमारी से परेशान हूं। जिस कारण मैं अपना कार्य पूरी तरह से कर नहीं पा रहा। मेरी मृत्यु के बाद मेरे परिवार या किसी को भी परेशान मत करना। मैं स्वेच्छा से आत्महत्या कर रहा हूं। मेरी मृत्यु की सूचना मेरे मामा सुधाकर नागले, मौसी शांति बाईकर, भैया राजेंद्र गुजरे, जीजाजी पंचम चौरसिया को दे देना। नाम के साथ ही सभी के मोबाइल नंबर लिखे हैं।

गैस की वजह से दम घुटने से मृत्यु
पुलिस ने बताय कि मृतक चेतन मैकेनिकल इंजीनियर था। आत्महत्या में उसने इंजीनियरिंग का उपयोग किया। मुंह पॉलीथिन से बंधा था। जिसमें नाइट्रोजन गैस पाइप से भरी होगी। दम घुटने से उसकी मृत्यु हुई है। प्रथम दृष्टया आत्महत्या प्रतीत हो रही है। सुसाइड नोट भी मिला है। मामले की जांच कर रहे है। मृतक के इंदौर, बैतूल के परिजन को सूचना दे दी है।

खबरें और भी हैं...
संबंधित

रोड में मलबा रखना पड़ेगा महंगा, हर स्तर में...

दुर्ग। दुर्ग निगम शहर में स्वच्छता बनाए रखने के लिए लगातार हर स्तर पर मानीटरिंग कर रही है। आपको बता दें, आयुक्त लोकेश चन्द्राकर...

दुर्ग के वार्ड-1 में 21 लाख से होगा विकास...

दुर्ग। दुर्ग निगम के वार्ड नंबर 1 डबरापारा में 21 लाख रूपए से विकास कार्य होंगे। जिसमें सीमेंटीकरण, सड़क, नाली और पुलिया का निर्माण...

BSP फिलेटर प्लांट का निरीक्षण करने टीम के साथ...

भिलाई। भिलाई निगम के कमिश्नर देवेश कुमार ध्रुव (IAS) ने भिलाई स्टील प्लांट के वाटर फ़िल्टर प्लांट का बुधवार को निरिक्षण किया। आयुक्त ध्रुव...

भिलाई नगर विधायक देवेंद्र यादव का कलेक्टर को एक...

भिलाई। टाउनशिप में रहने वाले लोगों को बीएसपी के द्वारा शुद्ध और पीने योग्य पानी नहीं दिया जा रहा है। पानी की समस्या को...

ट्रेंडिंग